पुलिस ने मधुबनी निवासी मनोज व दोनों शार्प शूटरों को किया गिरफ्तार
युग करवट संवाददाता
गाजियाबाद। टीला मोड़ थाने के एसएचओ महावीर सिंह की टीम ने १६ अप्रैल को लोनी-भोपुरा रोड पर हुई कृष्णा विहार निवासी संजय कुमार के ब्लाइंड मर्डर का खुलासा मात्र कुछ दिनों के अंदर करके ने केवल असली हत्यारों को जेल भेज दिया, बल्कि हरेराम उर्फ हरिनाम नामक बेकसूर व्यक्ति की जिन्दगी तबाह होने से भी बचा ली। पुलिस के मुताबिक पुलिस ने संजय की हत्या के मास्टर माइंड मनोज निवासी मधुबनी हाल हर्ष विहार फेस-2 को गिरफ्तार कर लिया। इसके बाद मनोज द्वारा मधुबनी बिहार से संजय की हत्या के लिये हायर किये गये शार्प शूटरों दिव्यानंद व मनीष को गिरफ्तार करके अदालत के सामने पेश कर दिया। इस खुलासे के संदर्भ में एसपी सिटी द्वितीय ज्ञानेंद्र सिंह ने बताया कि पूछताछ के दौरान मनोज ने संजय कुमार की हत्या करवाने की बात स्वीकारते हुए बताया कि उसे अपनी पत्नी पसंद नहीं थी, जिसके चलते वह दूसरा विवाह करना चाहता था, पर उसकी दूसरी शादी का जितना विरोध कर रही थी इतना विरोध उसका ससुर नहीं कर था। इतना ही नहीं उसके ससुर का दोस्त संजय उसे धमका भी रहा था। दूसरी शादी करने में रोड़ा बन रहे संजय कुमार को ठिकाने लगवाने के लिये उसने अपने गांव मधुबनी में रहने वाले दिव्यानन्द व मनीष को सुपारी दे दी। जिसके बाद दोनों शार्प शूटर संजय को गोली मारकर मौत के घाट उतारने के बाद अपने गांव चले गये। श्री सिंह ने बताया कि जिस दिन संजय की हत्या हुई, उस समय उसके भाई अचल ने एक ऐसे व्यक्ति के खिलाफ हत्या की रिपोर्ट दर्ज करवा दी थी, जिससे कुछ समय पूर्व पैसे के लेन-देन को लेकर संजय की कहासुनी हुई थी। श्री सिंह ने इस ब्लाइंड मर्डर की गुत्थी सुलझाने में अहïम भूमिका निभाने वाले टीला मोड़ के एसएचओ महावीर सिंह के सराहनीय कार्य की प्रसंशा भी की।