विशेष संवाददाता
गाजियाबाद (युग करवट)। नवनियुक्त पुलिस आयुक्त अजय मिश्रा को चापलूसी बिल्कुल पसंद नहीं है। वह केवल काम करने वाले कर्मचारी को ही पसंद करते हैं। जानकारी के अनुसार वह जब अपनी सरकारी गाड़ी में बैठ रहे थे तभी चालक ने खिडक़ी खोलकर उनकी चरण वंदना की। बस इसी से पुलिस आयुक्त नाराज हो गए और उन्होंने तत्काल चालक को हटाने के आदेश दिये और अब पुलिस कमिश्नर की गाड़ी पर नए चालक की तैनाती की गई है। अमूमन देखा गया है कि चालक या साथ में चलने वाले पुलिसकर्मी नंबर बढ़ाने के चक्कर में अपने अफसरों की चरण वंदना करते हैं। कुछ अफसर इससे खुश भी होते हैं और इसी चरण वंदना के चक्कर में कर्मचारियों की गलतियों को भी बड़े अफसर नजरअंदाज करते रहते हैं, लेकिन पुलिस आयुक्त अजय मिश्रा को ये अंदाज पसंद नहीं आया और तत्काल चालक को हटा दिया। सूत्र बताते हैं कि आने वाले समय में पुलिस आयुक्त अपने विभाग एवं कार्यालय में भी कुछ परिवर्तन कर सकते हैं।