पुलिस प्रशासन में जिला स्तर पर लगातार तबादला एक्सप्रेस चल रही है और जिलों के पुलिस कप्तानों को इधर से उधर किया जा रहा है, जिसकी सही सेटिंग है वो आज भी ठीक-ठाक पोस्टिंग पा रहा है और जिसकी सेटिंग ठीक नहीं है वो कितने भी अच्छे काम क्यों न कर लें उसे ऐसी जगह भेजा रहा है जहां उम्मीद भी नहीं है। तीसरी आंख को पता चला है कि अब वरिष्ठ आईपीएस अफसरों की बारी है और उम्मीद की जा रही है कि एडीजी स्तर के अधिकारी भी इधर से उधर किये जा सकते हैं। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार कई जोन के एडीजी बदले जा सकते हैं। वहीं गौतमबुद्घनगर के पुलिस आयुक्त भी ठीक-ठाक जगह जा सकते हैं। हालांकि कमिश्नर आलोक सिंह का लंबा समय नहीं होता तो शायद वो नहीं हटते, लेकिन चर्चा है कि वो भी किसी ठीक-ठाक जगह जा सकते हैं। क्योंकि आलोक सिंह की वर्किंग काफी अच्छी है इसके अलावा वो मुख्यमंत्री के साथ-साथ भाजपा के कई बड़े नेताओं की भी गुडबुक में हैं। वहीं मेरठ जोन के एडीजी के भी बदले जाने की चर्चा है। वो कहां जाएंगे ये अभी पता नहीं है, लेकिन मेरठ जोन में सीएम के निकट के अफसर की आने संभावना है। चर्चा है कि गोरखपुर के एडीजी अखिल कुमार मेरठ जोन आ सकते हैं। अखिल कुमार बहुत ही अच्छे अफसर हैं और पश्चिम के जिलों का उन्होंने लंबा अनुभव है, जिसका लाभ अपराध नियंत्रण में अहम भूमिका निभा सकता है। अखिल कुमार बहुत ही व्यवहारिक अफसर हैं और अपराध पर कंट्रोल करने की उनके अंदर एक अलग क्षमता है। उन्हें किसी कमिश्नरेट की भी जिम्मेदारी दी जा सकती है। इसके अलावा एडीजी (एलओ) प्रशांत कुमार भी गौतमबुद्घनगर के पुलिस आयुक्त बन सकते हैं। उनका भी एक लंबा अनुभव है। अगर आलोक सिंह बदलते हैं तो प्रशांत कुमार भी आ सकते हैं। क्योंकि प्रशांत कुमार भी सीएम के बेहद निकट है। वहीं इस माह में डीएस चौहान फुल फ्लैश डीजीपी बन जाएंगे ऐसी भी चर्चा है। देवेंद्र सिंह चौहान एक ऐसे अफसर हैं जिनके तेवरों से पुलिस विभाग में भी लोग घबराते हैं। अपराध पर नियंत्रण करने की उनके अंदर एक अलग ही क्षमता है यही वजह है जब से वो कार्यवाहक डीजीपी बने हैं तबसे प्रदेश में अपराधों में काफी कमी आई है। पुलिस विभाग में भी सभी अपनी जिम्मेदारी निभा रहे हैं। प्रदेश में चारों ओर पुलिसिंग दिखाई दे रही है। बहरहाल जिलों के कप्तानों के तबादलों के बाद अब बड़े अफसरों के तबादले की बारी है। देखना है किसकी गोटी कहां फिट होगी और कौन किसको जोर का झटका धीरे से देता है। – जय हिन्द।