गाजियाबाद। डायल-११२ से अटैच पीआरवी का कार्य अपराध पर नियंत्रण एवं किसी अपराधिक घटना की सूचना मिलते ही तत्काल मौके पर पहुंचकर पीडि़त को राहत पहुंचाना है। लेकिन अमूमन यह देखने में आ रहा है कि पीआरवी पर तैनात पुलिसकर्मी या तो चेकिंग के नाम पर अवैध उगाही में मसरूफ दिखाई देते हैं या फिर पीआरवी को कहीं सुनसान एवं एकांत स्थान पर खड़ी करके आराम फरमा रहे होते हैं। कप्तान मुनिराज ने ऐसे भ्रष्टï एवं निकृष्टï पुलिसकर्मियों को सबक सिखाने के लिये जनपद पुलिस मुखिया का चार्ज लेते ही मुहिम छेड़ दी थी। इस मुहिम के तहत उन्होंने कविनगर थाने से संबद्घ पीआरवी २१५४ पर तैनात पुलिसकर्मियों को भ्रष्टïाचार में लिप्त पाये जाने और कार्य में उदासीनता बरतने के अभियोग में कप्तान मुनिराज ने फौरी एंक्शन लेते हुए न केवल लाइन हाजिर कर दिया बल्कि उनके खिलाफ विभागीय जांच भी करवा दी।