पुलिस घटना को मान रही है संदिग्ध, विभाग छुपाने में लगा
मुरादनगर (युग करवट)। विद्युत विभाग के 220 केवीए ट्रांसमिशन पावर हाउस में एक करोड़ 18 लाख की चोरी होने का मामला प्रकाश में आया है। यह चोरी पावर हाउस परिसर में रखे 63 मेगावाट के दो ट्रांसफार्मरों में से की गई है। पुलिस इस चोरी को जहां संदिग्ध मान रही है, वहीं विद्युत विभाग के अधिकारी कुछ भी जानकारी देने से बचते नजऱ आ रहे हैं।
सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार दिल्ली मेरठ हाइवे पर रावली रोड तिराहे के सामने स्थित विद्युत विभाग के 220 केवीए ट्रांसमिशन पावर हाउस परिसर में 63 एमवीए के दो ट्रांसफार्मर रखे हुए थे। जिसमे एक ट्रांसफार्मर नया व एक पुराना था। उन दोनों ट्रांसफार्मरों में से चोर करीब एक करोड़ 18 लाख रुपए का कीमती कॉपर, पीतल आदि चोरी कर ले गए। थाना प्रभारी निरीक्षक सतीश कुमार ने बताया कि विद्युत विभाग में जबरदस्त सिक्योरिटी होने के बावजूद इतनी बड़ी चोरी होना संदिग्ध लग रहा है।
पुलिस ने रिपोर्ट दर्ज कर मामले की गहनता से जांच कर रही है। पुलिस ने मौके का मुआयना किया तो पाया कि चोरों ने इस चोरी को कई दिन में अंजाम दिया होगा, क्योंकि मौके से पुलिस को बड़ी संख्या में झूठे पत्तल व बोतलें आदि मिले हैं। इस मामले ट्रांसमिशन विभाग के एसडीओ योगेंद्र सिंह से बात की गई तो उन्होंने चोरी होना तो स्वीकार किया लेकिन कितना सामान चोरी हुआ इसकी कोई जानकारी नहीं दी। एसडीओ योगेंद्र ने बताया कि 11 जनवरी की रात में चोरी हुई थी। इस मामले में एक्सईएन राहुल गुप्ता से फोन पर बात की गई तो उनका कहना है कि चोरी तो हुई है। लेकिन इस मामले में अभी कुछ नहीं कहा जा सकता।