नई दिल्ली (युग करवट) । विवेक विहार के बेबी केयर न्यू बोर्न अस्पताल के संचालक डॉ. नवीन खीची ने पुलिस से कहा आग में झुलसने से नवजातों की मौत पर वह शर्मिंदा है। उसने कुबूल किया कि अस्पताल के संचालन में उसने नियमों की अनदेखी की हुई थी। उसका पांच बेड का अस्पताल था, लेकिन उसने 12 बच्चों को भर्ती किया हुआ था। आज विवेक विहार थाना पुलिस अस्पताल संचालक डॉ. नवीन खीची और अस्पताल के डॉ. आकाश को कडक़डड़ूमा कोर्ट में पेश कर 14 दिन की रिमांड मांगेगी। आरोपित डॉ. नवीन खीची पंजाबी बाग, गुरुग्राम और फरीदाबाद में भी नवजातों के तीन अस्पताल चला रहा है।
शाहदरा जिला पुलिस का कहना है कि दमकल व हरियाणा के स्वास्थ्य विभाग को अस्पतालों के बारे में बताया जाएगा। उनसे कहा जाएगा कि वह अस्पताल पंजीकरण व फायर की एनओसी सहित अन्य निमयों की जांच करें। वहीं हादसे में जान गंवाने वाले नवजातों के अभिभावकों का कहना है अस्पताल संचालक के खिलाफ हत्या का केस चलना चाहिए।पूर्वी दिल्ली के नवजात शिशु अस्पताल में आग लगने से मारे गए सात नवजात शिशुओं में से पांच के शव पोस्टमार्टम के बाद उनके परिवारों को सौंप दिए गए हैं। इस संबंध में पुलिस ने कहा कि अन्य दो नवजात शिशुओं के शव आज शव परीक्षण के बाद सौंपे जाएंगे।