युग करवट संवाददाता
गाजियाबाद। विजयनगर के वार्ड-५८ स्थित शिवपुरी में निर्मित द्वार पर श्री परशुराम द्वार से नाम हटवाने को लेकर हुआ विवाद अब शांत हो गया है। स्थानीय लोगो की नाराजगी के बाद मेयर आशा शर्मा के निर्देश पर बुधवार को फिर से द्वार पर स्टील के शब्दों में श्री परशुराम लिखा बैनर लगवाया गया है।
भाजपा नेता व अधिवक्ता मुकुल शर्मा ने कहा कि परशुराम द्वार का प्रस्ताव २७ नवंबर २०२१ को निगम की बोर्ड बैठक में तय हुआ था। द्वार को भव्य रूप देने के लिए जनसहयोग व ब्राहम्ण समाज के सहयोग से बैनर के स्थान पर स्टील के शब्दों में परशुराम द्वार लिखवाया जा रहा था, जिसकी पूर्व अनुमति मेयर से ली गई थी। लेकिन स्थानीय पार्षद ने द्वार पर नाम लिखवाने का काम रोक दिया, जिसके बाद विवाद शुरू हो गया। इस कार्रवाई का स्थानीय लोगों ने कड़ा विरोध जताया और कांग्रेस पार्षद को परशुराम विरोधी तक करार दे दिया। हालांकि इस विवाद का अंत मेयर आशा शर्मा के हस्तक्षेप के बाद हो गया। फिलहाल द्वार को पूर्व स्थिति में ही रखा जाएगा।