युग करवट संवाददाता
गाजियाबाद। लगता है कि नगर निगम आर्थिक संकट में फंसता जा रहा है। हाल ही में ठेकेदारों ने निगम से अपने बकाया की मांग की है। वहीं नगर निगम के वाहनों को प्राइवेट पंप मालिकों ने डीजल देने से इनकार कर दिया। इसके चलते आज पहला ऐसा दिन गया कि नगर निगम के वाहनो को डीजल तक नहीं मिला और वह गैराज में खड़े रहे। नगर निगम के पास करीब साढ़े चार सौ वाहन है। इनमें अधिक संख्या में डीजल से संचालित होते है। नगर निगम के इन वाहनों को अलग अलग प्राइवेट पंपों से डीजल लेना होता है। सूत्रों ने बताया कि नगर निगम ने लंबे समय से पंप संचालकों का बकाया भुगतान नहीं किया है।