गाजियाबाद (युग करवट)। नेहरु नगर स्थित यशोदा अस्पताल की आईसीयू टीम ने एक और कीर्तिमान हासिल किया है। डॉ. कमल दीप यादव के नेतृत्व में टीम ने सौ फीसदी मृत्यु दर वाली बीमारी से जूझ रहे एक नई जिंदगी प्रदान की है। पाल्मोलॉजी विभाग के अध्यक्ष डॉ ब्रजेश प्रजापति ने कहा कि एक गंभीर एल्युमिनियम फॉस्फाइड पॉइजनिंग (सेलफोस) मामले का सामना कर रहे एक व्यक्ति को बचाया गया। डॉ. यादव की देखरेख मेें मरीज का इलाज चला। इसके तहत उच्च-डोज़, मल्टीपल वासोप्रेसर स्ट्रैटेजी, और एक नई विधि इंसुलिन-डेक्सट्रोज-पोटेशियम रेजिमेन के तहत इलाज किया गया।
मेडिसिन विभाग के डॉ जलज दीक्षित ने बताया कि 6 दिनों की लगातार दिन-रात की देखभाल के बाद मरीज ने ऐसी रिकवरी की है जिसे केवल चमत्कारिक ही कहा जा सकता है। स्थित होने पर अब आईसीयू से वार्ड में शिफ्ट कर दिया जाएगा। यशोदा अस्पताल समूह के मैनेजिंग डायरेक्टर डॉ रजत अरोरा ने कहा कि डॉ. दीक्षित और डॉ. कमल दीप यादव के बीच की सहयोग का उत्कृष्टï उदाहरण देखा गया। यह कीर्तिमान एक मेडिकल विजय से अधिक है।