युग करवट संवाददाता
गाजियाबाद। निगम का करीब तीन सौ करोड़ रुपये हाउस टैक्स फंसा हुआ है। इसमें से दो सौ करोड़ रुपये सरकारी विभागों पर और करीब एक सौ करोड़ रुपये प्राइवेट लोगों पर बकाया है। सरकारी विभागों से टैक्स के बकाया की रिकवरी के लिए निगम फरवरी से अभियान शुरू करेगा। इससे पहले निगम प्राइवेट बड़े बकाएदारों को निशाने पर लेने जा रहा है। नगर आयुक्त महेंद्र सिंह तंवर ने इसके लिए विशेष अभियान शुरू करने के निर्देश दिए है। मुख्यकर निर्धारण अधिकारी डॉ. संजीव सिन्हा ने बताया कि चालू वित्त वर्ष में नगर निगम को करीब दो सौ करोड़ रुपये टैक्स वसूली का टारगेट हासिल करना है। निगम अभी तक कई करोड़ रुपये टैक्स की वसूली कर चुका है। अब निगम बकाएदारों को निशाने पर लेने जा रहा है। इसके लिए निगम प्रशासन ने जोनवार सर्वे का कार्य शुरू कर दिया है। सर्वे रिपोर्ट अगले सप्ताह तक पूरी हो जाएगी।