प्रमुख संवाददाता
गाजियाबाद (युग करवट)। नगर निगम को पांच करोड़ 22 लाख रुपये का झटका लगा। नोटिस के बाद आखिरकार नगर निगम को जीएसटी विभाग को यह पैसा जमा करना पड़ा। अभी नगर निगम को कई करोड़ रुपये और जीएसटी विभाग को देना पड़ सकता है। जीएसटी विभाग ने नगर निगम को हाल ही में बकाया का नोटिस दिया था। जिसमें बताया गया कि करीब 22 करोड़ रुपये जीएसटी बकाया है। इसमें पांच करोड़ 22 लाख रुपये मूल और बाकी पैसा ब्याज और जुर्माने का है। नोटिस के बाद नगर निगम ने पैसा जमा नहीं किया था। अब प्रतिदिन के हिसाब से निगम को जुर्माना देना पड़ रहा था। ऐसे में निगम प्रशासन को जीएसटी विभाग को पांच करोड़ 22 लाख रुपये अदा करना पड़ा। साथ ही बाकी करीब जीएसटी विभाग को जो पैसा बचा उसके अदा करने पर निगम बाद में फैसला लेगा। जीएसटी विभाग के नोटिस में बताया गया था कि अगस्त 2017 से मार्च 2022 तक जीएसटी विभाग में निगम ने ठेकेदारों से पैसा काटने के बाद उसे जमा नहंी कराया था। इसी को लेकर जीएसटी और नगर निगम के बीच विवाद चल रहा था। जीएसटी विभाग में इतनी बड़ी रकम अदा करने से नगर निगम में विकास पर विपरीत प्रभाव पड़ सकता है।