प्रमुख संवाददाता
गाजियाबाद (युग करवट)। नगर निगम के आवासीय एरिया में रहने वाले सभी कर्मचारियों के बिजली के कनेक्शनों की जांच होगी। इसके लिए सभी जोनल प्रभारियों को जांच कराने के लिए कहा गया है। इससे जल्दी ही पता चल जाएगा कि नगर निगम के कितने कर्मचारी बिना स्वीकृति के ही बिजली यूज कर रहे हैं। मोहननगर ऑफिस के पास आवासीय मकानों में रह रहे नगर निगम के 18 कर्मचारियों के पास बिजली का अलग से कोई मीटर नहीं मिला है। ये कर्मचारी मोहननगर जोनल ऑफिस से ही बिजली जोडक़र उपयोग कर रहे थे। इसी को लेकर अब नगर निगम प्रशासन फिर से एक्शन में आ गया है। नगर निगम प्रशासन अब कविनगर जोन, विजयनगर जोन, वसुंधरा और सिटी जोन एरिया के सरकारी मकानों में रहने वाले निगम के अधिकारियों और कर्मचारियों की जांच होगी। नगर निगम पता लगा रहा है कि कितने ऐसे आवास है जहां बिना स्वीकृति के ही बिजली का यूज किया जा रहा है। ऐसे मामलों से नगर निगम को हर महीने मोटा नुकसान हो रहा है। दरअसल जो कर्मचारी बिजली चोरी से यूज कर रहे हैं उनके वेतन से वह पैसा एकाउंट विभाग नहीं काट रहा है जिस कारण नुकसान हो रहा है। अगर विधिवत कर्मचारी आवास में बिजली यूज होती है तो उसका बिल उन्हें अपनी जेब से देना होगा। माना जा रहा है कि दस से पन्द्रह दिनों के अंदर नगर निगम सभी बिजली कनेक्शनों की जांच करा लेगा।