युग करवट संवाददाता
गाजियाबाद। कमाई पर चोट होते ही कई बार कर्मचारी इतने बौखाला जाते है कि वह अपने अधिकारी को ही गाली-गलौच करने लगते हैं। ऐसा ही एक मामला नगर निगम की मोहननगर जोन में सामने आया है। यहां कर अधीक्षक बनारसी दास को उनके अधिनस्थ कर्मचारियों ने ही आखें फोडऩे, खिड़की से बाहर फैंकने, ओर जान से मारने की धमकी तक दे डाली। यहीं नहीं एक अन्य कर्मचारी हाउस टैक्स निर्धारण की बैकडेट की पत्रावली पर हस्ताक्षर नहीं करने से उन पर बिगड़ गए। उन्होंने भी टैक्स अधीक्षक जान से मारने तक की धमकी तक दे डाली। कर अधीक्षक बनारसी दास एक कर्मचारी की धमकी से तो इतने डर गए कि उन्होंने पवन कुमार शर्मा नामक कर्मचारी के खिलाफ थाना साहिबाबाद में केस दर्ज कराने के लिए तहरीर दी है। तहरीर में उन्होंने बताया कि वह अपने ऑफिस में बैठे थे। तभी पवन कुमार शर्मा उनके केबिन में आए और उन्होंने देखते ही गाली गलौच शुरू कर दी। शर्मा पर आरोप है कि उन्होंने कर अधीक्षक को जान से मारने, आंखे फोडऩे, खिड़की से बाहर फैंकने तक की धमकी दी। इस प्रकरण की अब पुलिस ने जांच शुरू कर दी है। इसी कर अधीक्षक को दूसरी धमकी उसी दिन रवींद्र कुमार नामक कर्मचारी ने दी। इनके खिलाफ विभागीय कार्रवाई करने के लिए कर अधीक्षक ने कर निर्धारण अधिकारी डॉ. संजीव सिन्हा से शिकायत की है। हालांकि सिन्हा ने कहा कि मुझे इसकी प्रकरण की कोई जानकारी नहीं है। दूसरी और इतनी बड़ी घटना पर निगम प्रशासन पर्दाडाल रहा है। इसी के चलते कर अधीक्षक के साथ बदशलूकी करने वाले कर्मचारी पर नगर आयुक्त महेंद्र सिंह तंवर ने भी अभी तक कोई एक्शन नहीं लिया है।