प्रमुख संवाददाता
गाजियाबाद (युग करवरट)। नगर निगम की सख्ती का असर अब दिखाई देना शुरू हो गया है। इसी के चलते ही शहर में पालतू कुत्तों का रजिस्ट्रेशन बढऩा शुरू हो गया है। पहले करीब 2300 लोगों के पास ही पालतू कुत्तों का रजिस्ट्रेशन था। मगर, अब बड़ी संख्या में ही पालतू कुत्तों का रजिस्ट्रेशन कराया जा रहा है। पालतू कुत्तों के रजिस्ट्रेशन बढक़र करीब चार हजार से अधिक पहुंच गया है।
माना जा रहा है कि जल्दी ही इसकी संख्या और बढ़ जाएगी। नगर निगम बोर्ड की बैठक में पालतू कुत्तों के रजिस्ट्रेशन को लेकर काफी सख्त संदेश दिया था। इसके बाद ही नगर निगम ने दो टूक कर दिया था कि किसी भी सूरत में लोगों को अपने पालतू कुत्तों का रजिस्ट्रेशसन कराना होगा। ऐसा न करने वालों पर पांच हजार रुपये का जुर्माना लगाया जाएगा। इसके अलावा एक सख्त नियम भी लागू किया गया है, जिसमें कहा गया कि पिटबुल सहित तीन खतरनाक प्रजाति के कुत्तों के पालने पर पूरी तरह से रोक लगा दी गई।
इन प्रजाति के कुत्ते पालने पर रोकउनकी हमला करने की प्रवृत्ति के कारण लगाने का बोर्ड की बैठक में फैसला लिया गया था। नगर निगम के पशु कल्याण अधिकारी डॉ. अनुज सिंह का कहना है कि लोगों के पास दो महीने का समय है, जिसमें वह इस आश्य के साथ कुत्तों का रजिस्ट्रेशन करा सकते है कि वह उनकी नसबंदी करा चुके हैं। दो महीने बाद किसी को भी आक्रमक प्रवृति के कुत्ते पालने की इजाजत नहीं दी जाएगी।