युग करवट संवाददाता
गाजियाबाद। नगर निगम कार्यकारिणी की बैठक में आज कई खास प्रस्ताव पास हुए। बैठक नगर निगम सभागार में शुरू हुई। इसकी अध्यक्षता मेयर आशा शर्मा ने की। इस दौरान तमाम निगम के अधिकारी तथा पार्षद आदि मौजूद रहे। इस दौरान कई खास प्रस्ताव नगर निगम कार्यकारिणी की बैठक में पास हुए। इनमें सबसे खास प्रस्ताव नगर निगम की वर्किंग को डिजिटल करने का हुआ। नगर निगम का कहना है कि अभी तक पेपर के जरिए वर्किंग होती है। नगर निगम की कोशिश है कि एक पोर्टल के जरिए नगर निगम शहर के लोगों को तमाम फैसिलिटी उपलब्ध कराएगा।
क्या हुए प्रस्ताव पेश-
निगम कार्यकारिणी की आज हुई बैठक में कई खास प्रस्ताव पेश किए गए। जिन पर गर्मजोशी के साथ चर्चा चली। कार्यकारिणी की बैठक में आज कुल मिलाकर दस प्रस्ताव पेश किए गए। इसमें विकास कार्यों के अलावा कई नीतिगत फैसलों पर भी चर्चा हुई। तंबाकू विक्रेता को लाइसेंस अनिवार्य-कार्यकारिणी में कोटपा एक्ट पेश किया गया। इस प्रस्ताव के पास होते ही शहर में अब कोई भी १८ वर्ष से कम उम्र का किशोर तंबाकू प्रॉडक्ट नहीं बेच सकेगा। विक्रेताओं को इसके लिए पंजीकरण कराना होगा। अस्थाई दुकानदारों के लिए पंजीकरण २०० रुपये, स्थाई कारोबारियों को 1000 रुपये और थोक कारोबारियों को पंजीकरण के लिए पांच हजार रूपये देने होंगे। नामंत्रण पर लेट शुल्क-अभी तक प्रॉपर्टी के नामांत्रण का कुल शल्क रजिस्ट्री का एक प्रतिशत होता था। लेट फीस अभी तक तय नहीं थी। मगर नए प्रस्ताव के हिसाब से अब नामांत्रण कराने के लिए 90 दिनों तक के लिए कोई लेट शुल्क देना नहीं होगा। अगर इससे अधिक लेट है तो उन्हें अलग से एक हजार रुपये लेट फीस देनी होगी। बढ़ी बायलोज फीस-निगम ने बायलॉज फीस बढ़ाने का प्रस्ताव भी सदन में पेश किया। होटल, लॉज, गेस्ट हाउस, बारातघर पर पहले 1000 अब 3000 रुपये प्रस्तावित की गई है। इसी प्रकार से 20 बैड तक के नर्सिंग होम पर 2000 के स्थान पर 5000, 20 बैड से बड़े नर्सिंग होम पर पांच के स्थान पर छह हजार, प्राइवेट क्लीनिक पर तीन हजार के स्थान पर चार हजार तथा एरिएटेड वॉटर, कॉल्ड ड्रिंक फुटकर विक्रेताओं को अब बायलॉज लाइसेंस के लिए 1500 रुपये प्रस्तावित किया गया है।