युग करवट संवाददाता
गाजियाबाद। देश भर में जहां कोरोना संक्रमण के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं वहीं दूसरी ओर सार्वजनिक स्थलों पर ना तो सोशल डिस्टेंस औ नाहीं मास्क की अनिवार्यता का पालन किया जा रहा है। आलम यह है कि बार-बार सावधानी बरतने की अपील के बाद भी बाजारों में अच्छी खासी भीड़ उमड़ रही है। जबकि बाजारों में भी नो मास्क नो सामान का नियम लागू किया गया है। इसके बाद भी बड़ी संख्या में लोग बिना मास्क के बाजारों में खरीददारी करने पहुंच रहे हैं। सोशल डिस्टेंस का पालन दुकानों पर भी होता नजर नहीं आ रहा है। कोरोना संक्रमण के बीते २४ घंटे में जिले में १६ नए मामले सामने आए हैं। जिले में लगातार संक्रमण का खतरा बढ़ता जा रहा है। इसके बाद भी लोग लापरवाही बरत रहे हैं। सार्वजनिक स्थलों का हाल देखकर ऐसा लगता है कि लोगों को शायद संक्रमण का कोई भय नहीं है। जबकि संक्रमण के फैलाव को रोकने के लिए स्वास्थ्य विभाग पूरी ताकत से जुटा हुआ है लेकिन लोगों की लापरवाही सभी तैयारियों पर भारी पड़ती दिख रही है। मास्क ना पहनने वालों के खिलाफ जुर्माना लगाए जाने की कार्रवाई भी शुरू कर दी गई है लेकिन बड़ी संख्या में लोग बेखौफ सार्वजनिक स्थलों पर घूम रहे हैं। जो लोग मास्क लगा भी रहे हैं, वह भी ठीक प्रकार से उसका इस्तेमाल नहीं कर रहे हैं। महज खानापूर्ति के लिए अधिकतर लोग मास्क लगाकर बाहर दिखाई दे जाएंगे। लोगों की यह लापरवाही आने वाले दिनों में बड़ा नुकसान कर सकती है। नाइट कफ्र्यू के चलते नववर्ष के आयोजनों पर रोक लग गई है। लेकिन बाजारों व सार्वजनिक स्थलों पर हो रही लापरवाही को भी रोकना जरूरी है। सरकारी अस्पतालों में बड़ी संख्या में मरीजों की भीड़ उमड़ रही है लेकिन यहां भी सोशल डिस्टेंस का पालन होता नहीं दिख रहा। मास्क लगाए तो लोग जरूर मिल जाएंगे लेकिन सोशल डिस्टेंस का पालन नहीं हो रहा।