युग करवट संवाददाता
गाजियाबाद। नगर आयुक्त महेंद्र सिंह तंवर पहले ऐसे अधिकारी है जो शहर को विकास की दिशा दिखाने के साथ साथ अंडर ग्राउंड वॉटर लेवल को ठीक करने में लगे है। साथ ही शहरी गांवों में जल भराव की समस्या को भी दूर करने में लगे है। उनकी इन्हीं कोशिशो के चलते बरसात के इस मौसम में कई करोड़ लीटर पानी को बचाने का कार्य किया गया है। साथ ही तालाबो के साफ होने से शहर को एक साफ वातावरण भी मिलेगा।
नगर आयुक्त करीब एक वर्ष पहले जब गाजियाबाद आए तक तालाबों की बुरी स्थिति थी। ऐसे में उन्होंने शहर के सभी 46 तलाबों की सफाई व्यवस्था करने का बीड़ा नगर निगम ने उठाया। नगर निगम ने तालाबों को पुनर्जीवित करने के लिए अभियान चलाया। इस अभियान के तहत नगर निगम प्रशसन ने गांव रईसपुर के चार, तालाबों की सफाई कर करीब चार करोड़ लीटर बरसात का पानी बचाने का कार्य किया। इसी तरह से गांव नायफल में दो करोड़ लीटर, बयाना के तालाबों में पांच लाख लीटर, नूर नगर के तालाब में पांच लाख लीटर, मकनपुर के तालाब में करीब ढ़ाई करोड़, तथा मोरटा के तालाब में तीन करोड़ 50 लाख लीटर पानी निगम ने बचाने का कार्य किया। इस दौरान एक और बड़ी सफलता जल भराव को लेकर भी मिली। अगर इन सभी तालाबों की सफाई नहीं होती तो इन ग्रामीण एरिया में जल भराव का संकट पैदा हो सकता था। इससे अंडर ग्राउंड वॉटर टेबिल भी ऊपर आएगा। पानी के जमीन में जाने से वॉटर टेबल ऊपर आएगा।