प्रमुख संवाददाता
गाजियाबाद (युग करवट)। मास्टर प्लान 2031 पर सुनवाई अब अंतिम चरण में पहुंच गई है। जीडीए के नियोजन विभाग की माने तो अब केवल करीब तीन सौ ही आपत्तिकर्ता रह गए है जिन्हें अपना पक्ष रखना है। हर रोज अब लगातार तीन दिनों तक आपत्तियों पर सुनवाई हो रही है। सुनवाई के दौरान खुद जीडीए वीसी आरके सिंह मौजूद रहते है। इसका कारण यह है कि वह नहीं चाहते कि किसी को यह मौका मिले कि सुनवाई को गंभीरता से नहीं लिया जा रहा है। नए मास्टर प्लान के लिए पिछले महीने आपत्ति और सुझाव मांगे गए थे। इस दौरान सभी आपत्तियों का निस्तारण चल रहा है। निस्तारण की प्रक्रिया शुरू करते हुए जीडीए की ओर से पांच अगस्त से सुनवाई का दौर चल रहा है। सुनवाई का अंतिम दिन 26 अगस्त है। अब आज का दिन अगर छोड़ दिया जाए तो केवल दो दिन और सुनवाई चलेगी। सुनवाई कमेटी में शासन से लेकर प्रशासन के सदस्य शामिल है। इस सुनवाई में जीडीए बोर्ड के सदस्यों को भी वीसी आरके सिंह ने आमंत्रित किया हुआ है। ताकी सुनवाई में पारदर्शिता बनी रही। इसका एक कारण यह भी है कि जीडीए की काफी समय से कुछ अधिकारियों के कारण छवि प्रभावित हुई है। कई बार पारदर्शिता को लेकर सवाल खड़े किए जाते रहे है। मगर जीडीए इस बार यह मौका नहीं देना चाहता है। इस लिए पारदर्शिता के साथ सुनवाई का दौर चल रहा है।