नगर संवाददाता
गाजियाबाद। (युग करवट) एक ओर जहां केन्द्र व प्रदेश की भाजपा सरकार स्ट्रीट वेन्डरों को सशक्त बनाने के लिए योजनाएं चला रही हैं तो वहीं स्थानीय अधिकारी इन योजनाओं का लाभ लोगों तक नहीं पहुंचा पा रहे हैं। यहां तक की जिन स्ट्रीट वेन्डर्स का योजना में चयन हो गया है, उन्हें भी इसका लाभ नहीं मिल पा रहा है। इसकी एक बानगी नगर निगम के डूडा कार्यालय में देखी जा सकती है। यहां विभाग की सीढिय़ों व एक कक्ष में कबाड़ की तरह पीएम स्वनिधि योजना के प्रमाणपत्र धूल खा रहे हैं। इन प्रमाणपत्रों की संख्या सैंकड़ों में होगी, जिन पर लाभार्थियों की फोटो के साथ ही प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का फोटो भी चस्पा है। महीनों से यह प्रमाणपत्र यहां सीढिय़ों पर पड़े धूल खा रहे हैं। गौरतलब है कि नगरायुक्त से लेकर अपर नगरायुक्त सहित निगम के अधिकतर अधिकारी यहां से गुजरते हैं, लेकिन किसी की नजर इन धूल खा रहे प्रमाणपत्रों पर नहीं पड़ी। इन प्रमाणपत्रों को देखकर ही अंदाजा लगाया जा सकता है कि कैसे जिले के लाभार्थियों को योजनाओं का लाभ मिल रहा होगा। अधिकारियों के पास इतना भी समय नहीं है कि वे इन प्रमाणपत्रों को लाभार्थियों तक पहुंचा दें।