मुख्यमंत्री ममता पहुंचीं सीबीआई दफ्तर, कहा- मुझे भी गिरफ्तार करो
युग करवट ब्यूरो
नई दिल्ली। पश्चिम बंगाल में फिर राजनीति गरमा गई। यह राजनीति चुनावी नहीं, बल्कि नारदा स्टिंग घोटाले को लेकर गर्माई है। सीबीआई द्वारा इस मामले में दो मंत्री और दो विधायकों की गिरफ्तारी के बाद तृणमूल कांग्रेस के कार्यकर्ताओं ने सीबीआई दफ्तर के बाहर प्रदर्शन किया। इस दौरान हालात इस कदर बेकाबू हुए कि यहां पर पत्थरबाजी शुरू हो गई, जिसके बाद सुरक्षाबलों ने लाठीचार्ज किया।
2016 में सामने आए नारदा स्टिंग के मामले में बीते दिनों ही राज्यपाल से जांच करने की इजाजत मिली थी। इसी केस में सीबीआई ने सोमवार को टीएमसी के नेताओं के घर पर छापेमारी की और उन्हें अपने साथ दफ्तर ले आई। सीबीआई जिन नेताओं को अपने दफ्तर ले आई उनमें दो मंत्री फिरहाद हकीम और सुब्रत बनर्जी भी शामिल है। इसके अलावा दो विधायक को भी सीबीआई अपने दफ्तर ले आई है। दफ्तर लाने के बाद सभी को गिरफ्तार दिखा दिया गया। इससे भड़कीं मुख्यमंत्री ममता बनर्जी भी सीबीआई कार्यालय पहुंच गईं और खुद को भी गिरफ्तार करने को कहा। देखते ही देखते सीबीआई दफ्तर के बाहर टीएमसी कार्यकर्ताओं का हुजूम लगना शुरू हो गया। पहले यहां सीबीआई के एक्शन के खिलाफ नारेबाजी हुई और कुछ ही देर में पत्थरबाजी हुई, इस दौरान सुरक्षाबलों पर पत्थर, बोतल और अन्य सामान डाले गए। जिसके बाद केंद्रीय सुरक्षाबलों ने लाठीचार्ज भी किया। तृणमूल कांग्रेस के कार्यकर्ताओं द्वारा की गई पत्थरबाजी के बाद बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने चिंता व्यक्त की है। उन्होंने ट्वीट कर लिखा कि सीबीआई दफ्तर के बाहर पत्थरबाजी की जा रही है, लेकिन कोलकाता पुलिस, बंगाल पुलिस मूकदर्शक बनी हुई हैं। इस मामले को जल्द निपटाने की अपील है। वही, तृणमूल कांग्रेस का आरोप है कि विधानसभा चुनाव में हार के बाद भाजपा की ओर से ये बदले की कार्रवाई की जा रही है।