युग करवट संवाददाता
गाजियाबाद। जीटी रोड स्थित देवी दुर्गा मंदिर में मंहत की नियुक्ति को लेकर विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा है। अब इस मामले में एक प्रेसवार्ता कर मंदिर के नवनियुक्त मंहत गिरीशानंद गिरी ने लखन गिरी पर षडयंत्र रचने का आरोप लगाया है। महंत गिरीशानंद गिरी ने कहा कि उनकी नियुक्ति श्री पंचदशनाम जूना अखाड़ा की परम्परा के अनुसार ही की गई है। महंत की नियुक्ति में डीएम या सरकार का कोई निर्णय मान्य नहीं होता है। लेकिन लखन गिरी अपने साथियों के साथ दुष्प्रचार करने में जुटा है ताकि सरकार मंदिर का अधिग्रहण कर रिसीवर लगा दे। महंत गिरीशानंद गिरी ने कहा कि लखन गिरी नियुक्ति को लेकर जो दुष्प्रचार कर रहा है वह निराधार है जबकि पिछले ३५ सालों में वह कभी देवी दुर्गा मंदिर नहीं आया और ना ही उसका कोई संबध रहा है। मंहत नारायण गिरी पर लग रहे आरोपों का भी महंत गिरीशानंद गिरी ने खंडन करते हुए कहा कि मठ के विकास एवं व्यवस्था के लिए अखाड़ा ही मंहत की नियुक्ति करता है इसमें किसी एक की मर्जी नहीं चल सकती। ऐसे में उनकी नियुक्ति पूरी तरह से वैध है। गिरीशानंद गिरी ने कहा कि आगामी दिनों में मंदिर और भव्य स्वरूप दिया जाएगा। प्रेसवार्ता में मंहत विजय गिरी, साध्वी कैलाशीनिरी, महंत कार्तिकेय गिरी, स्वामी शिवानंद, स्वामी रमेशानंद, शिव कुमार गर्ग, यतेन्द्र नागर, अजय चोपड़ा, ईश्वर सिंह, नरेन्द्र, राहुल तंवर, सुनील नागर, कैलाश, विनोद शुक्ला, नरेन्द्र कुमार तिवारी आदि मौजूद रहे।