युग करवट संवाददाता
गाजियाबाद। दूधेश्वरनाथ मंदिर में कोविड नियमों के साथ ही भक्तों को दर्शन कराए जा रहे हैं। सोशल डिस्टेंस के गोले के साथ ही वैक्सीन लगवाने का प्रमाणपत्र देखने के बाद ही लोगों को मंदिर में एंट्री मिल रही है। लॉकडाउन खुलने के साथ ही मंदिरों में भक्तों की भीड़ उमडऩी शुरू हो गई है। लेकिन संक्रमण की दूसरी लहर के खतरनाक रूप को देखते हुए इस बार और भी सावधानी मंदिरों में बरती जा रही हैं। मंदिरों में एकसाथ पांच से अधिक लोगों को एंट्री नहीं दी जा रही है तो वहीं कोविड टीकाकरण को बढ़ावा देने के लिए उन भक्तों की एंट्री बंद कर दी गई है जो वैक्सीन नहीं लगवा रहे हैं। मंदिर के बड़े गेट के बजाए छोटा गेट ही खोला गया जहां जांच के बाद ही प्रवेश दिया जा रहा है। मंदिर प्रबंधन के अनुसार संक्रमण का प्रसार फिर से ना बढ़ सके, इसके लिए सावधानी बरती जा रही हंै। मंदिर में मूर्तियों को स्पर्श करने पर पूरी तरह से रोक है तो वहीं लोग जलाभिषेक के लिए मूर्ति को ना छू सकें, इसके लिए चारों ओर से तीन फीट तक कवर कर दिया गया है ताकि भक्त ऊपर से ही जलाभिषेक कर सकें।