युग करवट ब्यूरो
नई दिल्ली। दिल्ली के रिठाला से आप विधायक मोहिंदर गोयल ने सदन में रिश्वत में मिली नोटों की गड्डियां दिखाईं। विधायक ने पूरा मामले बताते हुए कहा कि बाबा साहेब अंबेडकर अस्पताल में नर्सिंग समेत कई पदों पर भर्ती के लिए टेंडर निकला है। इसमें बड़े स्तर पर पैसों की उगाही होती है। आप विधायक ने कहा कि अस्पताल में विभिन्न पदों पर भर्ती के लिए सरकार का क्लॉज है कि 80 फीसदी पुराने कर्मचारियों को रखना है, लेकिन ऐसा नहीं होता। इसमें बड़े स्तर पर उगाही होती है। नौकरी हो जाने के बाद भी कर्मचारियों को पूरे पैसे नहीं मिलते। ठेकेदार उनमें से बहुत पैसे खुद ले लेते हैं। कर्मचारी इस मामले को लेकर अस्पताल में स्ट्राइक पर बैठे, वहां उनके साथ मारपीट हुई। मोहिंदर गोयल के मुताबिक, उन्होंने इसकी शिकायत डीसीपी, मुख्य सचिव और उपराज्यपाल तक से की थी। उन्होंने मुझसे सेटिंग की कोशिश की कि विधायक को भी मिला लें। खुलासे के लिए मैंने उनसे सेटिंग की और डीसीपी को जानकारी दी कि 15 लाख रिश्वत का पैसे मुझे दे रहे हैं और मैं उन्हें रंगे हाथ पकड़वाना चाहता हूं, लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई। मैं जान जोखिम में डालकर यह काम कर रहा हूं वे इतने दबंग लोग हैं कि मेरी जान ले सकते हैं। इसकी निष्पक्ष जांच होनी चाहिए। वहीं दिल्ली विधानसभा के अंदर हंगामे को लेकर भाजपा के चार विधायकों को सदन से बाहर कर दिया गया है। भाजपा विधायक अभय वर्मा, अजय महावर, ओपी शर्मा और अनिल वाजपेयी को मार्शल्स के जरिए बाहर कर दिया गया है।