देश-विदेश के मेडिकल कॉलेज में
नोएडा (युग करवट)। देश-विदेश के विभिन्न मेडिकल कॉलेजो में दाखिला दिलाने के नाम पर छात्र-छात्राओं को अपने जाल में फंसाकर करोड़ों रुपए की ठगी करने वाले गैंग का थाना सेक्टर 113 पुलिस ने आज खुलासा किया है। इनके पास से पुलिस ने लाखों रुपए की नगदी, विभिन्न छात्र-छात्राओं द्वारा दिए गए करोड़ों रुपए के भरे हुए चेक, लैपटॉप, फर्जी दस्तावेज, एटीएम कार्ड, क्रेडिट कार्ड आदि बरामद किया है। इनका एक साथी फरार है।
पुलिस उपायुक्त (जोन प्रथम) विद्यासागर मिश्रा ने बताया कि थाना सेक्टर-113 पुलिस ने एक सूचना के आधार पर नोएडा के सेक्टर-62 में छापेमारी की। यहां पर कुछ लोग एक कार्यालय चला रहे थे। जहां से छात्र-छात्राओं को देश-विदेश के विभिन्न मेडिकल कॉलेज में दाखिला दिलाने के नाम पर उनसे लाखों रुपए की ठगी की गई जा रही थी। पुलिस ने मौके से राहुल कुमार पुत्र योगेंद्र निवासी जनपद पटना बिहार, अनूप कुमार पुत्र सत्येंद्र निवासी अजनारा ली गार्डन सोसायटी ग्रेटर नोएडा वेस्ट (दोनों मलिक) तथा वहां काम करने वाले दयानंद पांडे उर्फ मोहित, सचिन सिंह पुत्र रामकेश, विदुषी लोहिया पुत्री चंद्रगुप्त लोहिया, निकिता उपाध्याय पुत्री संजय उपाध्याय को गिरफ्तार किया है। उन्होंने बताया कि इस कंपनी का एक मलिक सोनू मौके से फरार है। पूछताछ के दौरान पुलिस को पता चला है कि ये लोग सोशल मीडिया और विभिन्न प्लेटफार्म के माध्यम से भारत और विदेशों में स्थित नामी मेडिकल कॉलेजो में छात्र-छात्राओं का दाखिला कराने के नाम पर लोगों से संपर्क करते थे। ये लोग प्रत्येक छात्र का दाखिला कराने के नाम पर 20 से 30 लाख रुपए तक उनसे ले लेते थे। सीधे-साधे लोग जो कि अपने बच्चों को हर हाल में डाक्टरी की पढ़ाई करवाना चाहते थे, वह इनके जाल में फंस जाते थे। उन्होंने बताया कि ये लोग उन बच्चों से संपर्क करते थे जिन्होंने मेडिकल में दाखिला के लिए एग्जाम दिया था। और रैंकिंग कम होने की वजह से उनका दाखिला होना संभव नहीं था। उन्होंने बताया कि इनके पास से 5 करोड़ से ज्यादा के भरे हुए चेक जो कि इन्होंने विभिन्न छात्र-छात्राओं के परिजनों से हासिल किया था, 3 लाख 90 हजार की नगदी और अन्य दस्तावेज बरामद हुआ हैं। उन्होंने बताया कि इन बदमाशों ने सैकड़ो छात्र-छात्राओं से ठगी करने की बात स्वीकार की है। उन्होंने बताया कि पुलिस इसे गहनता से पूछताछ कर रही है।