आगरा(युग करवट)। पुलिस कमिश्नरेट में इन परिस्थितियों का सामना कर रही महिला पुलिसकर्मियों के लिए खुशखबरी है। उन्हें दोपहर में बच्चों की छुट्टी के समय दो घंटे का अवकाश देने की योजना पर मंथन चल रहा है। लोकसभा चुनाव के बाद इसे योजना को मूर्तरूप देने की तैयारी है। कमिश्नरेट में 650 महिला पुलिसकर्मी हैं। इनमें आरक्षी से लेकर निरीक्षक तक शामिल हैं। जिनमें 60 प्रतिशत महिला पुलिसकर्मी विवाहित हैं। महिला पुलिसकर्मियों की परेशानी को देखते हुए उन्हें सुविधा देने के लिए मिशन शक्ति की नोडल अधिकारी एसीपी सुकन्या शर्मा द्वारा कार्य योजना बनाई गई। इसके तहत ऐसी महिला आरक्षी जिनके बच्चों की आयु तीन वर्ष तक है। उन्हें दोपहर में दो घंटे की छुट्टी देना, जिन महिला पुलिसकर्मियों के बच्चे स्कूल में पढ़ते हैं, उन्हें भी शामिल किया गया है। कार्य योजना में गर्भवती महिला पुलिसकर्मियों को भी शामिल किया गया है। इसके तहत उन्हें चिकित्सक द्वारा निर्धारित चेकअप पर पूरे दिन की छुट्टी देने की योजना है। इसके साथ ही गर्भवती महिला पुलिसकर्मियों की ड्यूटी लगाते समय भी यह ध्यान रखा जाएगा कि उन्हें ऐसी तैनाती न दी जाए जिसे असुविधा हो। उन्हें दबिश समेत अन्य ड्यूटी से दूर रखा जाएगा।