नई दिल्ली। तालिबान ने भारतीय समेत 150 नागरिकों को छोड़ दिया है। इन लोगों को काबुल एयरपोर्ट से जबरन अपने साथ लेकर गए थे। सभी 150 लोग अब एयरपोर्ट लौट रहे हैं। 150 लोगों में अफगानी सिख, अफगानी नागरिक और ज्यादातर भारतीय लोग शामिल थे। सभी भारतीय सुरक्षित हैं। जिन लोगों को तालिबानी अपने साथ ले गए थे, उनके पासपोर्ट की जांच की गई।
सूत्रों के मुताबिक, अगवा करने वालों ने कहा अब इन लोगों को काबुल एयरपोर्ट ले जाया जाएगा। फिलहाल इन लोगों को काबुल एयरपोर्ट के करीब एक गैराज में रखा गया है। अथॉरिटी लगातार लोगों के संपर्क में है। इन लोगों में शामिल एक शख्स जो अपनी पत्नी के साथ था और तालिबानी चंगुल से बचकर भागने में सफल रहा, उसने बताया था कि शुक्रवार रात एक बजे ये लोग एक वाहन के जरिए एयरपोर्ट पहुंचे थेे लेकिन कॉर्डिनेशन ठीक नहीं होने चलते ये लोग एयरपोर्ट के भीतर एंट्री नहीं पा सके।
लोगों ने बताया कि हथियार के कुछ तालिबानी आए और लोगों के साथ मारपीट की और फिर उन्हें काबुल के तारखिल ले गए। शख्स ने बताया कि वह और उसकी पत्नी कार से कूदकर भागने में सफल रहे। उसने बताया कि कुछ लोग ही कार से कूद पाए बाकी अन्य लोगों के साथ क्या होगा वह नहीं जानता। उसने बताया कि तालिबानियों का कहना था कि वह उन्हें दूसरे गेट से एयरपोर्ट से जा रहे हैं, लेकिन यह साफ नहीं हो पाया है कि वह उन्हें एयरपोर्ट ले गए या कहीं और लेकर गए हैं। हालांकि तालिबानियों की तरफ से इस रिपोर्ट को लेकर इनकार किया गया है। वहीं, तालिबान का को- फाउंडर सरकार बनाने को लेकर चर्चा करने काबुल पहुंचा है। मुल्ला अब्दुल गनी बरदार काबुल में जिहादी नेताओं और राजनीतिज्ञों से भी मुलाकात करेगा। तालिबानी नेताओं ने हामिद करजई, अब्दुल्ला अब्दुल्ला से भी मुलाकात की थी। उन्होंने भरोसा दिलाया था किसी के साथ बदला नहीं लिया जाएगा।