प्रमुुख संवाददाता
गाजियाबाद (युग कवरट)। डोर टू डोर कूड़ा कलेक्शन प्राइवेट हाथों में है। मगर कई ऐसी कॉलोनी और मौहल्ले है जहां डोर टू डोर कूड़ा कलेक्शन करने के लिए नगर निगम की गाड़ी कई कई दिन बाद आती है। इससे आम लोग परेशान है। डोर टू डोर कूड़ा कलेक्शन का कार्य प्राइवेट हाथों में है। सबसे पहले नगर निगम ने वसुंधरा जोन को प्राइवेट हाथ में दिया था। अब कविनगर जोन में भी डोर टू डोर कूड़ा कलेक्शन प्राइवेट हाथों में है। माना जा रहा था कि प्राइवेट हाथों में डोर टू डोर कूड़ा कलेक्शन होने से आम लोगों को बड़ी राहत मिलेगी। मगर ऐसा नहीं हो रहा है।
डोर टू डोर कूड़ा कलेक्शन जब प्राइवेट हाथों में गया जब तो कुछ समय के लिए बड़ी राहत मिली थी। मगर फिर से डोर टू डोर कूड़ा कलेक्शन का ढर्रा फिर से वहीं पुराने वाला आ गया। अब कई कई दिनों तक डोर टू डोर कूड़ा कलेक्शन की गाड़ी नहीं आती है। कई बार तो इसकी आम लोगों को निगम ऑफिस में शिकायत करनी पड़ी है।