युग करवट ब्यूरो
लखनऊ। डीजीपी मुकुल गोयल ने अपने विभाग में व्याप्त भ्रष्टïाचार और काले कारनामों के खिलाफ अभियान छेड़ दिया है। डीजीपी के निशाने पर सबसे पहले एटा के पूर्व एसएसपी सुनील कुमार सिंह आ गए हैं। एटा जिले के जैथरा कोतवाली थाने में में वादी के फर्जी हस्ताक्षर कर दुर्घटना का ट्रैक्टर बदलने के मामले में डीजीपी ने जांच के आदेश दिए है। डीजीपी ने तत्कालीन एसएसपी सुनील कुमार सिंह और एएसपी क्राइम ओपी सिंह के खिलाफ विभागीय जांच के निर्देश दिए है। यह जांच अलीगढ़ के एसपी सिटी करेंगे।
पुलिस महकमे में डीजीपी मुकुल गोयल के विभाग में भ्रष्टïाचार और गलत कारनामों के खिलाफ डंडा चलाने को लेकर हड़कंप मच गया है। उनके निशाने पर एटा समेत कई जिलों में एसएसपी रहे सुनील कुमार सिंह आ गए हैं। सुनील कुमार सिंह पर आरोप है कि उन्होंने एएसपी ओपी सिंह के गलत आचरण की गलत रिपोर्ट डीजीपी के पास भेजी थी। तत्कालीन एएसपी क्राइम ओपी सिंह पर आरोप है कि उन्होंने फर्जीवाड़े में शामिल जैथरा कोतवाली के एसओ के विरुद्ध एफआईआर अनुमति नहीं दी थी। इस पर पीडि़त ने डीआईजी को पत्र लिखकर एएसपी की शिकायत की थी। पीडि़त की शिकायत पर डीआईजी ने एसएसपी से रिपोर्ट मांगी थी। तत्कालीन एसएसपी सुनील कुमार सिंह ने तत्कालीन एएसपी क्राइम ओपी सिंह को बचाने को डीआईजी को झूठी रिपोर्ट भेज दी थी। मामला डीजीपी तक पहुंचने के बाद अब उन्होंने इसकी जांच के निर्देश दिए। डीजीपी की ओर से तत्कालीन एसएसपी एवं एएसपी क्राइम के विरुद्ध अंकित आरोपों पर गहन जांच के आदेश दिए गए। पूरे मामले की जांच अलीगढ़ के एसपी करेंगे।