युग करवट संवाददाता
गाजियाबाद। गाजियाबाद डीएम अजय शंकर पाण्डेय हमेशा अपने प्रयासों के लिए जाने जाते हैं। आमजन की शिकायत पर तत्काल एक्शन लेने के साथ ही वह खुद उसकी जमीनी हकीकत भी पता करते हैं। रातदिन वह आमजन की शिकायत के आधार पर उनका निस्तारण करते हैं। संवदेनशीलता से लोगों के साथ जुड़कर वह अपने कार्य को अंजाम देते हैं। इसका संदेश आमजन तक भी पहुंचता है। दो साल से डीएम अजय शंकर पाण्डेय कोरोना संक्रमण में अग्रणी भूमिका निभा रहे हैं। लोगों को इलाज मिल सके, अस्पतालों में कोई कमी न हो, इसका ध्यान व्यक्तिगत रूप से उन्होंने रखा है तो वहीं मरीजों से फोन पर संवाद कर उनका हाल चाल भी जाना है या फिर लॉकडाउन के दौरान दैनिक मजदूरों के लिए राशन व अन्य जरूरतों के सामान की व्यवस्था और हर क्षेत्र में उन्होंने अपनी जि़म्मेदारी निभाई है लेकिन इस बार वह खुद कोरोना संक्रमित हो गए हैं। पहले होम आइसोलेशन में और फिर तबियत बिगडऩे पर वह अस्पताल में भर्ती हैं। डीएम के कोरोना संक्रमित होने से उनके शुभचिंतकों में उदासी की लहर दौड़ गई। लोग लगातार फोन, ई-मेल के माध्यम से ना केवल उनके ठीक होने की कामना करने के संदेश भेज रहे हैं बल्कि उनके आवास पर बुके आदि भेजकर उनके जल्द स्वस्थ होने की भी कामना कर रहे हैं। यहां तक कि बड़ी संख्या में लोगों ने डीएम आवास पर ‘गेट वेल सून’ के पोस्टर व बैनर भी चस्पा किए हैं। डीएम अजय शंकर के ओएसडी गौरव ने बताया कि डीएम अभी पूरी तरह से स्वस्थ नहीं हैं और ऐसे में डॉक्टरी परामर्श के चलते वह फोन कॉल अटेंड नहीं कर रहे हैं जिसकी वजह से लोगों के मैसेज का जवाब भी वह नहीं दे पा रहे हैं। लेकिन जल्द ही पूरी तरह से स्वस्थ होने के बाद वह लोगों के बीच होंगे। लोग लगातार डीएम के आवास पर पहुंचकर उनके स्वस्थ होने की कामना कर रहे हैं। वहां पहुंचे एक व्यक्ति ने बताया कि एक बार वह डीएम के आवास पर अपने किसी व्यक्तिगत कार्य के लिए पहुंचे और अपनी समस्या उन्हें बताई तो डीएम ने दो दिन के अंदर अधिनस्थ अधिकारी को निस्तारण के निर्देश दिए, इसके बाद उनकी समस्या हल हो गई। उन्होंने कहा कि ऐसे अधिकारी कम ही होते हैं जो आमजन की शिकायत पर तत्काल संज्ञान लेते हैं। ऐसे में वह जल्द ही अपना कार्यभार संभालें। बता दें कि होम आइसोलेशन के दौरान भी डीएम अजय शंकर पांडेय लोगों की मदद के लिए सक्रिय रहे हैं। उन्होंने खुद संक्रमित होने के बाद भी अधिक से अधिक समय लोगों की मद्द करने में लगाया।