गाजियाबाद (युग करवट)। डासना जेल में बंद विचाराधीन बंदी संपूर्णानन्द अनेजा उर्फ काले अनेजा की मौत संदिग्ध परिस्थितियों में आज तडक़े हो गई। उक्त घटना की सूचना मिलने के बाद पुलिस के आला अधिकारी भी सरकारी अस्पताल पहुंच गये। जहां एसीपी श्वेता यादव ने काले अनेजा के शव का पंचायतनामा भरकर उसके शव को पोस्टमार्टम के लिये भिजवा दिया। यह जानकारी देते हुए जेल अधीक्षक आलोक सिंह ने बताया कि कमिश्नरेट पुलिस ने काले अनेजा को २२ सितंबर २०२२ को डासना जेल भेजा था। गत १५ जून को काले अनेजा की तबीयत खराब होने के बाद उसे कारागार के अस्पताल में भर्ती किया गया था। बीती रात उसकी हालत बिगडऩे पर जेल प्रशासन ने काले अनेजा को सरकारी अस्पताल भेज दिया। जहां आज तडक़े उपचार के दौरान काले अनेजा की मौत हो गई। श्री सिंह ने बताया कि काले अनेजा की मौत बीमारी के चलते हुई है। काले अनेजा की मौत के बाद एसीपी नन्दग्राम रवि कुमार सिंह का कहना है कि सन २०२२ में कारोबारी रोनित ओबेराय उर्फ राजा की हत्या की सुपारी देने के मामले में जेल भेजा गया था।