युग करवट संवाददाता
गाजियाबाद। बीती रात कविनगर थाना क्षेत्र केअंतर्गत वेव सिटी सैक्टर-४ के पास दो व्यक्तियों की हत्या कर दी गई थी। इस मामले में एसएसपी मुनिराज दोहरे हत्याकाण्ड की गुत्थी आने वाले एक दो दिनों में ही सुलझाने का दावा कर रहे हैं। बता दें कि बीती रात कई कारणों से हुई दुश्मनी के चलते बादलपुर गांव के पास स्थित कृष्णा सिटी में रहने वाले जितेंद्र उर्फ जीतू व हरेंद्र उर्फ सुंदर को हत्यारोपियों ने पहले अपने छपरौला स्थित ऑफिस पर बुलाया और फिर दोनों को वेब सिटी के सैक्टर ले जाकर गोलियों से छलनी कर दिया। दोनों की हत्या करने के बाद हत्यारे जितेंद्र व हरेंद्र के शवों को घटनास्थल पर फेंककर फरार हो गये थे। इसके बाद पुलिस ने शवों को पोस्टमार्टम के लिये भिजवाकर जांच शुरू कर दी। मृतक जितेंद्र उर्फ जीतू की पत्नी प्रीति की तहरीर के आधार पर दुजाना निवासी विनोद नागर, अनिल नागर व बिल्लू आदि के खिलाफ आपराधिक धारा ३०२ व ३४ के तहत मुकदमा दर्ज करके उनकी गिरफ्तारी के लिये एसपी सिटी प्रथम निपुण अग्रवाल व एसपी क्राइम दीक्षा शर्मा की अगुवाई में पुलिस की आधा दर्जन टीम बनाकर कप्तान मुनिराज ने दबिश देने के लिये रवाना कर दिया। पुलिस ने कई लोगों को हिरासत में लेकर पूछताछ की। एसएसपी मुनिराज का कहना है कि प्राथमिक जांच में जो बात सामने आ रही है उससे पता चला है कि कुछ समय पूर्व विनोद नागर के भाई अरूण की हत्या कर दी गई थी। यूं तो अरुण नागर की हत्या के मामले में पुलिस ने मुख्य हत्यारोपियों को गिरफ्तार करके जेल भेज दिया था, लेकिन विनोद नागर आदि को यह शक था कि अरूण की हत्या के पीछे जितेंद्र उर्फ जीतू आदि का भी हाथ है और दूसरी वजह यह कि प्रॉपर्टी डीलिंग को लेकर दोनों पक्षों में मनमुटाव हो गया था। कप्तान ने बताया कि इस दोहरे हत्याकांड के पीछे दोनों कारण भी हो सकते हैं।