प्रमुख संवाददाता
गाजियाबाद (युग करवट)। नगर निगम में की आज हुई कार्यकारिणी की बैठक में शुरू होते ही हंगामा हो गया। बैठक शुरू होते ही यशपाल पहलवान ने वार्डों में 60 लाख के काम नहीं होने और ठेकेदारों का भुगतान नहीं करने का मामला उठा दिया। इस पर नगरायुक्त ने कहा कि निगम के पास इतना पैसा नहीं है कि नए काम शुरू कराए जा सकें। जैसे जैसे पैसा आता रहेगा काम होते रहेंगे। कार्याकरिणी सदस्य ने बात उठाई कि अगले कुछ महीने बाद नगर निगम का चुनाव है अगर विकास के कार्य नहीं हुए तो भाजपा पार्षदों और मेयर प्रत्याशी को बड़ा नुकसान उठाना पड़ेगा। इस मेयर आशा शर्मा ने कहा कि चुनाव एक साल के काम पर नहीं पांच साल के काम पर लड़ा जाएगा। अभी नगर निगम के पास फंड नहीं है। बैठक में नगर आयुक्त महेंद्र सिंह तंवर आदि अधिकारी मौजूद रहे। बैठक में डीएम आरके सिंह को भी शामिल होना था मगर वह किन्हीं कारणों से बैठक में शरीक नहीं हो सके। बैठक में गाजियाबाद में प्रदूषण को नियंत्रित करने के लिए कई करोड़ रुपये की लागत से पेड़ लगाकर नया जंगल तैयार करने का प्रस्ताव पास हुआ।
बैठक में मोहननगर जोन में हर्षा इंडस्ट्री एरिया , पाइप मार्केट , साहिबाबाद इंडस्ट्री एरिया, अंबेडकर पार्क वृंदावन गार्डन वार्ड 70, तथा राजेन्द्र नगर इंडस्ट्री एरिया में डेढ़ करोड़ रुपये खर्च होंगे। वसुंधरा में महाराजपुर में शौचालय के पीछे, साउथ साइट इंडस्ट्री एरियाविजयनगर, रईसपुर में निगम की जमीन परलोहा मंड़ी में पुलिस चौकी के पास पार्क की जमीन, कमल जैन पार्क , अशोक पहलावान वाला पार्क, तथा विजयनगर में अकबरपुर बहरामपुर के पास ,खाली पड़ी जमीन में पौधारोपण किया जाएगा। इस पर करीब छह करोड़ 26 लाख रुपये मंजूर किए गए है। बैठक में बताया गया कि पर्यावरण को संरक्षण के लिए नगर निगम को करीब 15 करोड़ रुपये मिला था। इसके अलावा पटेलनगर में नाला बनाने, मोरटा में हमतुम रोड तक नाला बनाने, प्रहलादगढ़ी गांव में इंटरलॉकिंग टायल्स लगाने, सौर ऊर्जा मार्ग की सडक़ बनाने, महामाया स्टेडियम के पीछे नाला बनाने,कैला भट्टा से अमन कॉलोनी के नाले को आरसीसी का बनाने, आदि के कई प्रस्ताव पर बैठक में चर्चा हुई।