गाजियाबाद (युग करवट)। नगर निगम कर्मचारी संघ के गत दिनों चले आंदोलन के बाद कई दूसरे संगठन से जुड़े कर्मचारी संघ को समर्थन देकर फंस गए। ऐसे ही नगर निगम में ठेके पर कार्य करने वाले माली शामिल हैं। इन मालियों ने भी संघ के आंदोलन को समर्थन दिया था। अब उन्हें अवकाश के दिन भी तीन दिनों तक कार्य करना होगा, नहीं तो उनका वेतन काटा जाएगा। आंदोलन के समाप्त होने के बाद नगर निगम कर्मचारी संघ की तमाम मांगों को मान लिया गया, मगर जिन संगठनों ने नगर निगम कर्मचारी संघ को समर्थन दिया था अब संघ के अध्यक्ष रवीन्द्र कुमार ने उन्हें उनके हाल पर छोड़ दिया। इनमें से एक संगठन ठेके के मालियों का भी है। ठेके के 800 के आसपास माली हैं, जो नगर निगम में कार्य करते हैं। इन मालियों के समर्थन देने से संघ का आंदोलन तो सफल हो गया, मगर अब मालियों की टेंशन बढ़ गई है। अब मालियों से कहा गया कि जिन तीन दिनों तक संघ के समर्थन में मालियों ने कार्य नहीं किया। अब इन मालियों को अवकाश के दिन तीन दिनों तक कार्य अधिक करना पड़ेगा। संघ अध्यक्ष की इससे खूब किरकिरी भी हो रही है।