युग करवट संवाददाता
गाजियाबाद। निजी स्कूलों की मनमानी पर रोक लगाने के लिए अब गजियाबाद पेरेंट्स एसोसिएशन ने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म का सहारा लिया है। जीपीए ने देश के प्रधानमंत्री और प्रदेश के मुख्यमंत्री से ट्वीटर हैंडल के जरिए शिक्षा के व्यापार पर रोक लगाने की गुहार लगाई है। सोशल मीडिया पर जीपीए पदाधिकारियों ने स्लोगन लिखे पोस्टर लेकर शिक्षा के मुद्दे पर पीएम और सीएम का ध्यान आकर्षित करने का प्रयास किया है। एसोसिएशन की अध्यक्ष सीमा त्यागी और सचिव अनिल सिंह ने कहा कि देश एवं प्रदेश के अभिभावक शिक्षा के बढ़तेे व्यापार से त्रस्त हैं। प्रदेश सरकार निजी स्कूलों के दबाव में काम कर रही है जिसका जीता जागता उदाहरण कोरोना वैश्विक महामारी में देखने को मिला। जब प्रदेश सरकार की तरफ से अभिभावकों को कोई मद्द नही मिली, उल्टे निजी स्कूलों को पेरेंट्स से लूट की खुली छुट दी गई है। प्रदेश के अभिभावक सरकारी स्कूलों को बेहतर बनाने की मांग कर रहे हैं जिससे पेरेंट्स को बेहतर विकल्प मिल सके। अभिभावकों ने मांग रखी है कि हर जिले में सरकारी स्तर पर सीबीएसई से मान्यता प्राप्त स्कूल खोले जाएं। अगर दिल्ली के सरकारी स्कूल बेहतर हो सकते हैं तो फिर यूपी के स्कूलों की स्थिति में सुधार लाया जा सकता है। जीपीए ने उम्मीद जताई है कि देश के पीएम व सीएम बच्चों के हित में निर्णय लेंगे।