नगर संवाददाता
गाजियाबाद (युग करवट)। लोनी में एक झोला छाप डॉक्टर के इलाज से एक आठ साल के बच्चे की मौत हो गई। यह घटना दस दिन पहले की है, तब से इस मामले में स्वास्थ्य विभाग सोया हुआ था। पीडि़त ने इस मामले में तहसील दिवस में शिकायत की, तब कहीं जाकर विभागीय अधिकारी हरकत में आए और अब डॉक्टर के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई जा रही है। बच्चे के बीमार होने पर परिजन उसे लोनी के सरस्वती क्लीनिक पर ले गए थे, जहां मौजूद डॉ. गौतम ने बच्चे को एक इंजेक्शन लगाया। इंजेक्श लगाने के बाद बच्चे की हालत सुधरने की जगह और ज्यादा खराब हो गई। परिजनों ने जब डॉक्टर को इसकी जानकारी दी तो वह क्लीनिक बंद करके फरार हो गया।
परिजन बच्चे को पास के दूसरे अस्पताल ले गए, लेकिन उसे बचाया नहीं जा सका। परिजनों ने स्वास्थ्य विभाग से शिकायत की, लेकिन कोई सुनवाई नहीं हुई। ऐसे में परिजनों ने तहसील दिवस के दौरान इस घटना की शिकायत की। इसके बाद मामले की जांच शुरू हुई। डिप्टी सीएमओ डॉ. जीपी मथुरिया ने बताया कि आरोपी डॉक्टर क्लीनिक बंद करके फरार है, इस बारे में विभागीय जांच की जा रही है। बच्चे के परिजनों को सीएमओ कार्यालय बुलाया गया है।