युग करवट ब्यूरो
नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी आज विज्ञान भवन में पहली अखिल भारतीय जिला कानूनी सेवा प्राधिकरण बैठक के उद्घाटन सत्र को संबोधित किया। इस दौरान उन्होंने कहा कि यह समय हमारी आजादी के अमृतकाल का समय है। ये समय उन संकल्पों का समय है जो अगले 25 वर्षों में देश को नई ऊंचाई पर ले जाएंगे। देश की इस अमृतयात्रा में श्वड्डह्यद्ग शद्घ ष्ठशद्बठ्ठद्द क्चह्वह्यद्बठ्ठद्गह्यह्य और श्वड्डह्यद्ग शद्घ रुद्ब1द्बठ्ठद्द की तरह ही श्वड्डह्यद्ग शद्घ छ्वह्वह्यह्लद्बष्द्ग भी उतना ही जरूरी है।
पीएम मोदी ने कहा कि किसी भी समाज के लिए ज्यूडिशियल सिस्टम तक एक्सेस जितना जरूरी है, उतना ही जरूरी जस्टिस डिलिवरी भी है। इसमें एक अहम योगदान ज्यूडिशियल इन्फ्रास्ट्रक्चर का भी होता है। पिछले आठ वर्षों में देश के ज्यूडिशियल इन्फ्रास्ट्रक्चर को मजबूत करने के लिए तेज गति से काम हुआ है।