प्रमुख संवाददाता
गाजियाबाद (युग कवरट)। प्रदेश में रोजगार सजृन करने के लिए अगले महीने लखनऊ में निवेशक समिट होने जा रही है। इसके लिए अधिक से अधिक निवेशक तलाशने की जिम्मेदारी प्रदेश के सभी विकास प्राधिकरणों को भी दी गई है। गाजियाबाद विकास प्राधिकरण ने भी इसके लिए तैयारी पूरी कर ली है। इसी को लेकर आज जीडीए वीसी आरके सिंह की अध्यक्षता में निवेशकों के साथ बैठक हुई। गाजियाबाद में भी करीब आठ हजार करोड़ रुपये का निवेश होगा।
जीडीए ने गाजियाबाद के चिन्हित निवेशकों का प्रदेश सरकार द्वारा जारी पॉर्टल पर रजिस्ट्रेशन करा दिया है। निवेश करने वाली कई प्राइवेट सेक्टर की कंपनी इसी महीने से गाजियाबाद में प्रोजेक्ट शुरू करेगी। इन निवेशकों के साथ आज जीडीए में करीब एक बजे एक महत्वूपर्ण बैठक हुई। बैठक की अध्यक्षता जीडीए वीसी आरके सिंह ने की। बैठक में जीडीए के नियोजन, इंजीनियरिंग, इलैक्ट्रिक, फाइनेंस आदि विभाग के अधिकारी मौजूद रहे। बैठक में करीब आठ हजार करोड़ रुपये का निवेश करने वाले प्राइवेट सेक्टर की कंपनी को भी बुलाया गया था। जीडीए के डेटा के मुताबिक हाउसिंग के 16 प्रोजेक्ट में 7290 करोड़ रुपये का निवेश गाजियाबाद में होगा। इसके अलावा हॉस्पिटल में 1000 करोड़ रुपये और स्कूल प्रोजेक्ट में निवेश करीब 200 करोड़ रुपये का निवेश होगा।
करीब आठ हजार करोड़ रुपये के होने जा रहे इस निवेश से गाजियाबाद में रोजगार के अवसर भी पैदा होंगे। जीडीए ने जो डेटा जारी किया है उसके हिसाब से एक लाख से अधिक लोगों के लिए रोजगार का अवसर पैदा होगा।
गाजियाबाद सिटी की लोकेशन ही रोजगार परक है। अब जब से गाजियाबाद से होकर मेरठ-दिल्ली एक्सप्रेस-वे, ईस्टर्न पेरिफेरल और आरआरटीएस प्रोजेक्ट आया है तब से यहां रियल स्टेट, स्कूल, इंडस्ट्री सेक्टर में बढ़ोत्तरी होने की उम्मीद और बढ़ गई है। इसे टीओडी ट्रांजिट ओरिएंटल डिवेलपमेंट यानि स्पेशल इकॉनोमिक जोन जीडीए के बनाए जाने से शहर मे निवेश और बढ़ेगा।