प्रमुख संवाददाता
गाजियाबाद (युग करवट)। जीडीए में एक कंसलटेंट की नियुक्ति होने से पहले ही विवाद पैदा हो गया। इस मामले में जीडीए बोर्ड सदस्य हिमांशु मित्तल की ओर से जीडीए वीसी आरके सिंह को पत्र लिखा गया है। जिसमें आशंका जताई गई है कि जीडीए में कंसलटेंट के पद पर जीडीए के ही उद्यान विभाग में तैनात रहे एसपी सिसौदिया को रखने की तैयारी है। इसी लिए जीडीए ने कंसलटेंट नियुक्ति का विज्ञापन निकाला है। जीडीए को लिखे पत्र में बताया गया। जिसमें बताया कि जीडीए उद्यान विभाग में एक कंसलटेंट की नियुक्ति करने जा रहा है। आवेदक किसी यूपी विकास प्राधिकरण में पहले काम कर चुका हो और उनका ग्रेट ६६०० से अतिरिक्त होना चाहिए। इससे आशंका है कि कंसलटेंट पद पर नियुक्ति किसी एक विशेष व्यक्ति की करने के लिए जीडीए ने आवेदन आमंत्रित किए है। उनकी आशंका है कि पूर्व में जीडीए में उद्यान प्रभारी के पद पर रह चुके एसपी सिसौदिया को कंसलटेंट के पद पर जीडीए में नियुक्ति की जा सकती है। वह सदैव विवादों में रहें उनके समय उद्यान कार्यों में टेंडर में पैसे की वृद्घि दस प्रतिशत से अधिक नहीं हो सकती है। इससे पहले २०१२ से २०१७ तक जीडीए में भी एसपी सिसौदिया तैनात रहे है। आशंका जताई की कुछ व्यक्तिगत फर्मो को फायदा पहुंचाने के उद्देश्य से उन्होंने सिसौदिया की नियुक्ति हो सकती है।