ग्रेटर नोएडा/जापान (युग करवट)। उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा फरवरी २०२३ में आयोजित होने वाले ग्लोबल इन्वेस्टर समिट के लिए यमुना प्राधिकरण को ६०,००० करोड़ निवेश का लक्ष्य दिया गया है। उप्र सरकार में पर्यटन एवं सांस्कृति मंत्री जयवीर सिंह की अध्यक्षता में यमुना प्राधिकरण के सीईओ डॉक्टर अरुण वीर सिंह इन दिनों जापान में आयोजित रोड शो में यीडा की परियोजनाओं का प्रदर्शन करने में जुटे हुए है।
जीआईएस रोड शो २०२३ के दौरान उत्तर प्रदेश सरकार की टीम तथा जापानीज बिजनेस लीडर जापान में मिले। जहां जापान में वेस्ट इन टोक्यो में रोड शो आयोजित किया गया। जापान में इस रोड शो के दौरान जापान के प्रतिष्ठित संस्थानों तथा जापान फार्मास्यूटिकल्स टेडर्स एसोसिएशन्स के पदाधिकारियों के साथ उत्तर प्रदेश में अवस्थापना परियोजना, फार्मा उद्योग मेडिकल डिवाइसेस तथा विश्वस्तरीय वेरहाउजिंग सुविधाओं के संबंध में विचार विमर्श किया गया। रोड शो के दौरान यमुना एक्सप्रेस वे प्राधिकरण के सीईओ द्वारा यमुना एक्सप्रेस वे प्राधिकरण क्षेत्र में १०० एकड़ भूमि पर टेक्सटाइल एवं अपैरल पार्क हेतु क्वॉलिटी ऐंड इवैल्युएशन सेंटर स्थापित करने १०,००० करोड़ का एमओयू निसेनकेन गुणवत्ता मूल्यांकन केंद्र टोक्यो प्रयोगशाला के ताकेशी एंडो के साथ किया। इस परियोजना से यमुना एक्सप्रेस वे प्राधिकरण क्षेत्र में दस हजार लोगों को रोजगार मिलने की संभावना है। इसके अतिरिक्त यमुना एक्सप्रेस वे प्राधिकरण द्वारा जापान में एक और एमओयू निसेनकेन गुणवत्ता मूल्यांकन केंद्र टोक्यो प्रयोगशाला के अकेशी एंडो के साथ हस्ताक्षरित किया गया। यह एमएमयू यमुना एक्सप्रेस वे प्राधिकरण क्षेत्र में ५० एकड़ भूमि पर ५००० करोड़ के निवेश से वेस्ट मैनेजमेंट फैसिलिटीज मैन्युफैक्चरिंग सेंटर स्थापित करने से संबंधित है।