प्रमुख अपराध संवाददाता
गाजियाबाद (युग करवट)। अगर पुलिस प्रशासन पूरी तरह से अलर्ट की नहीं होता तो गाजियाबाद में भी अन्य जिलों व सूबों की तरह हिंसक बवाल होना तय था। पुलिस प्रशासन की सूझ-बूझ व आमजनों के सहयोग की वजह से ही माहौल खराब करने वाले साजिशकर्ता अपने मंसूबों में सफल नहीं हो पाये। ऐसे अधिकांश साजिशकर्ता और मास्माइंड पुलिस प्रशासन के रडार पर भी आ गये हैं।
पुलिस सूत्रों की माने तो समय रहते पुलिस प्रशासन को यह भनक लग गई थी कि गाजियाबाद में भी कुछ अराजक एवं शरारती तत्व जिले की फिजा को खराब करने की साजिश रच रहे हैं।
इस साजिश की भनक लगते ही एसएसपी मुनिराज ने सभी एसपी एवं एएसपी स्तर के साथ गोपनीय बैठक करके साजिशकर्ताओं के चेहरों को बेनकाब करने के निर्देश दिये। साथ ही उन्होंने पुलिस महकमे की सभी विंग्स के प्रभारियों को भी पूरी तरह से अलर्ट व एक्टिव रहने के निर्देश दे दिए हैं। एसएसपी खुद भी ऐसे क्षेत्रों में पैदल भ्रमण करते दिखाई दिये, जहां साजिशकर्ता बवाल करने अथवा करवाने की फिराक में थे। सूत्रों का यह भी कहना है कि इस सनसनीखेज खुलासे के बाद एसएसपी से लेकर सभी आला अफसर संवेदनशील क्षेत्रों में डेरा डाले हुए हैं और हर गतिविधि पर पैनी नजर रख रहे है।
वहीं पुलिस अधिकारी विशेषकर एसपी देहात डॉक्टर इरज राजा कई बलों के साथ रात से ही संदिग्ध व्यक्तियों एवं अराजक तत्वों को आईडेंटीफाई करके उनकी धर-पकड़ करवाने में लगे हुए हैं। सूत्रों का यह भी कहना है कि अभी तक पुलिस के रडार पर एक दर्जन से अधिक अराजक तत्व आ चुके हैं।