युग करवट संवाददाता
गाजियाबाद। मोदीनगर बस हादसे को लेकर उत्तर प्रदेश के मुखिया सीएम योगी आदित्यनाथ ने भी दुख जताते हुए रिपोर्ट तलब की है। इस मामले की जांच पुलिस स्तर से लेकर जिला प्रशासन स्तर से भी की जाएगी। जांच का सबसे महत्वपूर्ण बिंदू रहेगा कि ब्लैक लिस्ट होने के बाद भी उक्त बस सडक़ पर कैसे दौड़ रही थी, जिससे दोषियों पर कड़ी कार्रवाई की जा सके। इस हादसे ने सभी को हिला कर रख दिया तो वहीं निजी स्कूलों की लापरवाही भी सामने ला दी, कि कैसे बिना फिटनेस प्रमाणपत्र के एक बस में क्षमता से अधिक बच्चों को लाने-ले जाने का काम किया जा रहा था। साथ ही ब्लैक लिस्ट होने के बाद भी स्कूल प्रबंधन ने बस को चलने दिया। इसके अलावा इतने सारे बच्चों की जिम्मेदारी महज एक बस ड्राइवर पर डाल दी गई। उस बस में क्लीनर से लेकर अन्य स्टाफ तक मौजूद नहीं था। इन सारी लापरवाही के जिम्मेदारों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई होना तय है। मामले की जांच प्रशासनिक अधिकारियों को सौंपी गई है, खुद सीएम ने इस मामले में जांच रिपोर्ट मांगी है।
वहीं अन्य स्कूलों में बिना फिटनेस के चल रही बसों पर अब कड़ी कार्रवाई परिवहन विभाग द्वारा की जाएगी। अगर स्कूलों में बिना फिटनेस और मानको के अनुसार बसें चलती नहीं मिली तो प्रबंधन से लेकर स्कूल बस ड्राइवर आदि पर भी कड़ी कार्रवाई की जाएगी।