युग करवट संवाददाता
गाजियाबाद। राशन कार्ड सरेंडर को लेकर यूपी में राजनीतिक गलियारों में हल्ला मचा हुआ है। तो वहीं आदेश जारी करने के बाद अब अधिकारी भी एक-दूसरे पर आरोप लगाकर मामले से बचने में लगे हैं। खुद सीएम योगी आदित्यनाथ इस मामले को लेकर गंभीर हैं और उन्होंने दोषी अधिकारियों पर कार्रवाई किए जाने के संकेत दिए हैं। जिस राशन कार्ड सरेंडर को लेकर प्रदेश भर में बवाल हो रहा है और ऐसा कोई नोटिस जारी न करने को लेकर सफाई दी जा रही है। वहीं जिला पूर्ति विभाग में अभी भी राशन कार्ड सरेंडर का नोटिस चस्पा है। जिस पर स्पष्टï लिखा हुआ है कि राशन कार्ड सरेंडर करने के लिए कार्ड धारक प्रार्थना पत्र के साथ अपना राशन कार्ड जमा करें।
इस नोटिस को पढऩे के बाद लगातार लोग अपना कार्ड जमा कराने के लिए विभाग पहुंच रहे हैं। इतना ही नहीं नौ मई को राशन कार्ड जमा कराने का नोटिस भी बोर्ड पर लगा हुआ है। उसके साथ विभागीय कर्मचारियों ने आयुक्त के निर्देशों की कॉपी जरूर चस्पा कर दी है, लेकिन विभागीय बोर्ड से राशन कार्ड सरेंडर का नोटिस हटाने की जहमत किसी कर्मचारी ने नहीं की है।
इसका असर यह हो रहा है, जानकारी करने वाले लोग नोटिस पढक़र अपना कार्ड धड़ल्ले से जमा करा रहे हैं। अधिकारियों की बातों का असर भी लोगों पर नहीं पड़ रहा, कार्ड धारकों का कहना है कि एक ओर को कार्ड जमा करने से मना कर रहे हैं वहीं दूसरी तरफ नोटिस लगाया हुआ है।
इसके चलते कार्रवाई के डर वह अपना कार्ड जमा करा रहे हैं। इस मामले पर बवाल होने और विपक्षी दलों द्वारा हल्ला मचाने के बाद अधिकारी सिर्फ सत्यापन के बाद अपात्रों के कार्ड निरस्त करने की बात कह रहे हैं, लेकिन विभागीय नोटिस बोर्ड पर चस्पा यह नोटिस लोगों के बीच भय का कारण बना हुआ है।