कुछ को आध्यात्मिक गुरु से अधिक लगाव होता है। तो कुछ ऐसे होते हैं जो किसी को अपना मार्गदर्शक मान लेते हैं। मेरा मानना है कि जिन गुरु ने स्कूल या कॉलेज में हमारी नींव को मजबूत किया हो या हमें पढ़ा कर काबिल बनाया है वह हमारे जीवन में बहुत महत्व रखते हैं। आज भी मेरे स्कूल के समय के कुछ गुरु हैं जिनसे मैं आशीर्वाद लेता हूं। बीएस भटनागर जी हैं अंग्रेजी के अध्यापक थे, आजकल गुरुग्राम में रहते हैं। मार्कंडेय उपाध्याय हैं जों हिन्दी पढ़ाते थे और एसिस्टेंट हाउस मास्टर थे। वह पिलानी में रहते हैं। टीएन गोस्वामी ने भूगोल पढ़ाया था। उनकी हर खेल में रूचि रहती थी। मैं अपने इन्हीं गुरु जनो से आशीर्वाद लेता हूं। उनके चरणों की धूल को सिर पर लगाता हूं। क्योंकि उनके द्वारा ही मेरा जीवन प्रशस्त हुआ है। सेना में रहने के दौरान जवानों से बहुत कुछ सीखा है। राजनीति में आया तो भाजपा के कार्यकर्ताओं की समर्पण की भावना देखी। पार्टी के कार्यकर्ताओं का भी सम्मान करता हूं।
वीके सिह, केन्द्रीय सडक़ परिवहन एवं नागर विमानन राज्य मंत्री