लखनऊ। जितिन प्रसाद के भाजपा में शामिल होते ही उनके संगठन ब्राह्मïण चेतना परिषद में फूट पड़ गई। उनके इस कदम से परिषद के कई सदस्यों में नाराजगी देखी जा रही है। परिषद से जुड़े उन्नाव के जिला अध्यक्ष कमलेश तिवारी ने इस्तीफा दे दिया है। कमलेश तिवारी ने कहा कि परिषद का गठन मौजूदा सरकार के ब्राह्मण विरोधी रवैये के विरोध में हुआ था। अब जब खुद जितिन उसी पार्टी में शामिल हो गए हैं, तो उनके लिए संगठन में रहना मुश्किल हो रहा है। दरअसल ब्राह्मण चेतना परिषद का गठन मौजूदा सरकार की ब्राह्मण विरोधी गतिविधियों के खिलाफ आवाज उठाने के लिए हुआ था। कमलेश तिवारी का कहना है कि अभी और भी सदस्य संगठन छोडऩे की घोषणा करेंगे। ब्राह्मण चेतना परिषद में जितिन प्रसाद संरक्षक के तौर पर जुड़े हुए हैं। इसके अलावा बीपी मिश्रा इसके अध्यक्ष, रंजन दीक्षित सचिव हैं और पंडित विश्वदीप अवस्थी प्रदेश अध्यक्ष के तौर पर काम कर रहे हैं। कमलेश तिवारी ने बताया कि जितिन प्रसाद के भाजपा में शामिल होने से संगठन के लोगों को गहरा आघात पहुंचा है।