नगर संवाददाता
गाजियाबाद (युग करवट)। यूपी में भूजल जलदोहन अधिनियम लागू होते ही मुरादनगर में सालों से चल रहे ड्रिज्लिंग लैंड वॉटर पार्क पर लघु सिंचाई विभाग द्वारा बड़ी कार्रवाई की गई है। विभाग की टीम ने वॉटर पार्क को सीज कर नोटिस दिया है। हालांकि, अभी विभाग इस बात की जांच कर रहा है कि पार्क में कितना जल दोहन किया जा रहा था।
लघु सिंचाई विभाग के जेई सुधीर ने बताया कि यूपी में भूजल के दोहन पर पांबदी हैं। अगर किसी को जल दोहन करना है तो इसके लिए विभाग की परमिशन लेना आवश्यक है। इसके बाद ही नियमानुसार जमीन से पानी लिया जा सकता है। जांच में ड्रिज्लिंग लैंड वॉटर पार्क में जलदोहन की जानकारी मिली। जांच की गई तो पार्क प्रबधंकों के पास जलदोहन से संबंधित कोई परमिशन नहीं मिली।
हालांकि, सालों से परमिशन की जांच न करने को लेकर अधिकारियों ने कहा कि फिलहाल जांच की गई है, जिसमें पार्क प्रबंधन दोषी पाया गया है। जेई ने बताया कि पार्क के पास कोई मीटर भी नहीं पाया गया, जिससे पता चल सके कि यहां प्रतिदिन कितना जल दोहन हो रहा था। अब इस स्तर पर भी जांच होगी और उसके बाद ही आगे की कार्रवाई की जाएगी। बता दें कि यह वॉटर पार्क दिल्ली एनसीआर के लोगों के लिए आर्कषण का केन्द्र था। गर्मी के दिनों में यहां लोगों की काफी भीड़ रहती थी।