विहिप नेताओं का आरोप बेबुनियाद, नहीं तोडा एक भी मंदिर
नगर संवाददाता
गाजियाबाद (युग करवट)। नगर निगम द्वारा मंदिरों के आसपास तोड़े गए अतिक्रमण के मामले को लेकर विवाद गहराता जा रहा है। अब विहिप के आरोपों पर मेयर सुनीता दयाल ने प्रेसवार्ता कर अपना पक्ष रखा। उन्होंने आरोप लगाया कि भाजपा परिवार के ही लोग उन्हें टारगेट कर रहे हैं। जबकि विहिप के नेताओं ने बिना किसी जानकारी के आरोप लगा कर १२ मंदिर तोड़े जाने की लिस्ट जारी की है, जबकि किसी भी मंदिर को कोई नुकसान नहीं पहुंचा है। सभी मंदिर अपनी जगह सही सलामत है। विवेकानंद नगर डबल स्टोरी के मंदिर को भी कोई नुकसान नहीं पहुंचा हैं लेकिन मंदिर की आड़ में किया गया अतिक्रमण हाईकोर्ट के निर्देश के बाद हटाया गया है। ऐसे में इस मामले में इस तरह की राजनीति करना सीधे तौर पर एक साजिश है। इस दौरान उन्होंने बिना किसी का नाम लिए कहा कि उन्होंने जिसके लिए चुनाव में रोड शो किया, चुनाव प्रचार किया, जनसभाएं की, आज उसी परिवार का एक व्यक्ति उनके खिलाफ न सिर्फ बयानबाजी कर रहा है बल्कि उनकी छवि को भी नुकसान पहुंचाने का काम रहा है। मेयर सुनीता दयाल ने कहा कि वह इन सभी साजिशों का ठोस जवाब चार जून के बाद लोकसभा चुनाव सम्पन्न हो जाने के बाद देंगी। मेयर ने कहा कि विहिप के नेताओं द्वारा आंदोलन की रणनीति बनाई गई है, लेकिन कौन धरना देगा या नहीं इसका पता कल ही चल सकेगा। मेयर ने कहा कि इस सम्बंध में वह भाजपा संगठन के बडे नेताओं और विहिप के आला नेताओं को इस सारे मामले से अवगत कराते हुए पत्र लिखेंगी। उन्होंने कहा कि विहिप भी भाजपा के ही एक परिवार का हिस्सा है, ऐसे में किसके कहने पर मेरे खिलाफ साजिश की जा रही है, इस मामले में भी वह अपना पक्ष रखेंगी और साजिश करने वालों को ठोस जवाब देंगी। मेयर सुनीता दयाल ने कहा कि जब से वह मेयर बनी हैं तब से आम जन उनसे बेहद खुश है लेकिन भूमाफिया उनसे नाराज हैं, ऐसे में ऐसी स्थिति भी कहीं न कहीं भूमाफियों के कहने पर ना की गई हो, उससे भी इंकार नहीं किया जा सकता है। मेयर ने आरोप लगाए कि भाजपा संगठन का एक हिस्सा चुनाव के दौरान उनकी छवि खराब करने का काम रहा है। लेकिन वह अभी शांत रहेंगी। मेयर ने सभी १२ मंदिरों की जियो टैग के साथ फोटो भी शेयर की हैं। इस दौरान मेयर ने क्षेत्र के पार्षद राजकुमार नागर के लिए कहा कि वह स्थिति को देखकर सामजंस्य नहीं बैठा पाए, लेकिन जो लोग आंदोलन की बात कर रहे हैं उन्होंने भी कोई सच्चाई नहीं जानी। विहिप नेताओं को समय न देने के सवाल पर मेयर ने कहा कि वह हमेशा उपलब्ध हैं, लेकिन विहिप के नेता झूठ बोल रहे हैं, उनसे मिलने के लिए किसी ने वार्ता नहीं की, नाहि मंदिरों के विषय में जानकारी ली, अब वो कहां से जानकारी लेकर आएं, इसका जवाब उन्हें देना होगा। वहीं इस मौके पर विवेकानंद नगर के पार्षद राजकुमार नागर ने कहा कि यह मामला दो पक्षों के पैसे के लेनदेन का था, जिसकी आड में नगर निगम को मोहरा बनाया गया है। जो भी कार्रवाई हुई वह हाईकोर्ट के निर्देश पर हुई है। हालांकि उन्होंने कहा कि वह पहले ही निगम अधिकारियों को बता चुके थे, कि वहां कार्रवाई करने पर विरोध होगा। इस मौके पर नंदग्राम के पार्षद ओम त्यागी, नीरज गोयल, बिजेन्द्र त्यागी मौजूद रहे।