गाजियाबाद (युग करवट)। जनरल वीके सिंह का टिकट काटकर विधायक अतुल गर्ग को टिकट दिए जाने के बाद से राजपूत समाज में भाजपा के प्रति नाराजगी को दूर करने के लिए पार्टी की ओर से तमाम कवायदें की जा रही है। एक ओर जहां अतुल गर्ग के नामांकन के दौरान रक्षामंत्री राजनाथ सिंह को आमंत्रित किया जा रहा है तो वहीं, क्षत्रिय समाज के प्रभावशाली नेताओं से संपर्क कर उन्हें पार्टी प्रत्याशी के पक्ष में करने के लिए मान मनौवल किया जा रहा है।
लेकिन क्षत्रिय समाज की नाराजगी कम होने के बजाय बढ़ती जा रही है। चार बार के सांसद व वरिष्ठ नेता रमेश चंद तोमर को भाजपा चुनाव संचालन समिति में सदस्य के रूप में शामिल नहीं किए जाने के बाद यह नाराजगी और भी बढ़ गई है। सूत्रों के अनुसार, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के प्रबुद्घ सम्मेलन की जानकारी भी पूर्व सांसद रमेशचंद तोमर को नहीं दी गई थी।
भाजपा का दावा है कि संचालन समिति में सभी समाज और सभी वर्गों का प्रतिनिधित्व दिया गया है। संचालन समिति में लोकसभा संयोजक अजय शर्मा, महानगर अध्यक्ष संजीव शर्मा, सभी विधायक, पूर्व मेयर आशा शर्मा, पूर्व मेयर अशु वर्मा, राज्यसभा सांसद डॉ. अनिल अग्रवाल, पूर्व विधायक कृष्णवीर सिरोही, पूर्व पार्षद राजेंद्र त्यागी, वरिष्ठ नेता डॉ, वीरेश्वर त्यागी, सरदार एसपी सिंह, पूर्व महानगर अध्यक्ष अरविंद भारतीय, मीडिया प्रभारी प्रदीप चौधरी, लेखराज माहौर, बॉबी त्यागी, सुशील गौतम, संजीव चौधरी, अंकित शर्मा, राजीव अग्रवाल, महेश अग्रवाल, अशोक संत, तरुण शर्मा, जयकमल अग्रवाल, पंकज भारद्वाज, सुदेश कश्यप, उमेश भाटी, कामेश्वर त्यागी, उदिता त्यागी, रनिता सिंह, मोनिका पंडित, रुद्र प्रताप त्यागी, सुभाष शर्मा, भूपेश शर्मा, निखिल कुमार, वीरेंद्र सारस्वत, शिवम शर्मा और अनुज राघव शामिल है।