नोएडा (युग करवट)। दो चीनी जासूसों को शरण देने के आरोप में ग्रेटर नोएडा पुलिस द्वारा गिरफ्तार भारत में अवैध रूप से रह रहे चीनी नागरिक सु- फाई के खिलाफ जांच एजेंसियों को कई अहम सुराग मिले हैं। इसके साथ गिरफ्तार इसकी महिला मित्र नागालैंड निवासी पेटेख रेनुओ के खाते में पिछले 6 महीने में 52 लाख रुपये की ट्रांजैक्शन हुई है। बताया जाता है कि गिरफ्तार सु फाई पानीपत, गाजियाबाद तथा नोएडा में मोबाइल फोन के पार्ट्स बनाने की कंपनी चलाने की आड़ में अपने गोरखधंधे को अंजाम देता था। बताया जाता है कि 52 लाख की रकम चीनी नागरिक की महिला मित्र के खाते में कई माध्यम से आई है। गुप्तचर एजेंसियां हवाला सहित विभिन्न माध्यमों को ध्यान में रखकर मामले की जांच कर रही है। चीनी नागरिक का मुंबई कनेक्शन में मिला है। उसके द्वारा बनाए गए फर्जी पासपोर्ट पर वह कई बार मुंबई भी गया है।
ग्रेटर नोएडा के जेपी ग्रींस में अवैध वीजा से रह रहे चीनी नागरिक सु फाई ने चीन से अवैध तरीके से आए अपने मेहमानों युआन हैंलोंग निवासी बुहान और लूलांग निवासी बुहान को थाना ईकोटेक-प्रथम क्षेत्र के चुहड़पुर गांव स्थित रिवेरिया वैली गेस्ट हाउस में ठहराया था। ये लोग लगभग 15 दिनों तक इस सुनसान स्थान पर बने आलीशान गेस्ट हाउस में ठहरे थे। इन दोनों को यशस्वी ने जासूसी के आरोप में पुलिस ने कुछ दिन पूर्व नेपाल भारत सीमा से जासूसी के आरोप में गिरफ्तार किया था बीटा-2 पुलिस ने गेस्ट हाउस पर देर रात छापा मारा तो वहां पर नेपाल की 2 तथा उत्तर पूर्वी भारत क्षेत्र की चार लड़कियां मिलीं। नेपाल की रहने वाली दो लड़कियों ने पुलिस को बताया है कि वे वहां पर खाना बनाने का काम करती थी, जबकि चार लड़कियां यह बताने में असमर्थ रही है कि वे उक्त आलीशान गेस्ट हाउस में क्या करती थी। गुप्तचर एजेंसिया तथा पुलिस इनसे गहनता से पूछताछ कर रही है। इन्हें नोएडा के एक नारी आश्रय में रखकर इनसे पूछताछ की जा रही है। पुलिस को शक है कि यह ज्योतियां विदेश से आकर अवैध रूप से रहने वाले लोगों को परोसी जाती थी। पुलिस ने गेस्ट हाउस को सील कर दिया है तथा वहां भारी पुलिस बल तैनात कर दिया गया है। पुलिस के अधिकारी और फॉरेंसिक टीम गेस्ट हाउस की भी गहनता से जांच कर रही हैं। पुलिस को वहां से भी कुछ सुराग मिले हैं।
पुलिस सूत्रों ने बताया कि करोड़ों की कीमत वाले इस गेस्ट हाउस का मालिक सु फाई का भारतीय साझीदार रवि उर्फ नटवरलाल है। रवि चीनी नागरिकों के पकड़े जाने के बाद से फरार हो गया है। पुलिस उसकी तलाश कर रही है। रिवेरिया वैली गेस्ट हाउस और क्लब में करीब 40 से 50 कमरे बने हैं। यहां सभी एशो आराम के साधन जुटाए गए हैं। गेस्ट हाउस के सभी कमरों में चीन की संस्कृति की झलक भी मिल रही है। जिससे यहां आने वाले चीनी नागरिकों को घर जैसा अहसास हो। पुलिस इस बात का पता लगा रही है कि यह रिवेरिया वैली गेस्ट हाउस गांव में वैध तरीके से बनाया गया है या यह अवैध रूप से बनाया गया है। सु फाई ने चीन से अवैध तरीके से आए युआन हैंलोंग और लूलांग को इसी रिवेरिया वैली गेस्ट हाउस में करीब 15 दिनों तक ठहराया था। इस दौरान दोनों चीनी नागरिक कहां-कहां गए इसकी जानकारी की जा रही है। गेस्ट हाउस में एंट्री रजिस्टर की भी जांच की जा रही है। जिससे पता लग सके कि दोनों चीन के नागरिक यहां कितने दिन ठहरे थे। इसके अलावा यहां कौन-कौन बाहर के नागरिक आकर ठहरे। गेस्ट हाउस में लगे सीसीटीवी से भी पुलिस जानकारी ले रही है।
पुलिस के छापे के दौरान वहां पर एक भी चीनी नागरिक नहीं मिला है। इससे पुलिस समेत जांच एजेंसियों का शक और गहरा गया है। गुरुग्राम के ताज होटल और जेपी ग्रींस में पुलिस की छापेमारी के बाद यहां रह रहे अन्य लोग फरार तो नहीं हो गए। पुलिस यह भी पता लगा रही है कि इससे पहले ही अवैध रूप से रह रहे अन्य चीनी नागरिकों को वहां से रवाना तो नहीं कर दिया गया है। मालूम हो कि चीनी नागरिक युआन हैंलोंग निवासी बुहान और लूलांग निवासी बुहान को भारत नेपाल सीमा से जासूसी के आरोप में गिरफ्तार किया गया था दोनों 15 दिन तक ग्रेटर नोएडा में अवैध रूप से रुके थे।