नगर संवाददाता
गाजियाबाद(युग करवट)। उत्तर प्रदेश माटी कला बोर्ड के अध्यक्ष ओमप्रकाश गोला प्रजापति ने आज जिला मुख्यालय में जागरूकता कार्यक्रम और समीक्षा बैठक ली। इस दौरान उन्होंने माटीकला को बढ़ावा देने के लिए जागरूकता कार्यक्रमों पर जोर दिया। साथ ही उन्होंने कहा कि चाइनीज दीयों को बाजार से बाहर करना ही बोर्ड का लक्ष्य है। बोर्ड अध्यक्ष ओमप्रकाश गोला ने कहा कि प्रजापति समाज ही ऐसा है, जो आज भी दुनिया में मिट्टी के बर्तनों की संस्कृति को जिंदा रखे हुए हैं। आज दुनिया प्लालिस्ट पर निर्भर है, लेकिन हमारा प्रयास है कि लोग वापस मिट्टी के बर्तनों की ओर जागरूक हों। इसके लिए सरकारी कार्यक्रमों व बैठकों में मिट्टी के बर्तनों के इस्तेमाल पर जोर दिया जा रहा है। कुम्हारों को बेहतर मिट्टी मिलने की समस्या पर बोर्ड अध्यक्ष ने कहा कि गांवों में तो मिट्टी की उपलब्धता है, लेकिन शहरी क्षेत्र में मिट्टी की समस्या सबसे अधिक है। इसलिए शहरी और ग्रामीण क्षेत्र के बीच कामगारों को मिट्टी उठान के पट्टे आंवटित किए जाते हैं। उन्होंने कहा कि सिर्फ सरकारी ही नहीं हर आमजन इसके प्रति जागरूक हो। उन्होंने कहा कि समय बदला तो बाजारों पर चाइनीज उत्पादो का कब्जा हो गया। यहां तक की दीवाली जैसे त्यौहारों पर भी चाइनीज दीये बिकते हैं, लेकिन सरकार प्रजापति समाज को बढ़ावा देकर अधिक से अधिक संख्या में मिट्टी के दीये हर साल तैयार कराती है, जिससे चाइनीज उत्पादों की बिक्री देश में समाप्त हो जाए। कुम्हारों की दिक्कतों के लिए समय-समय पर समीक्षा की जाती है। बैठक के उपंरात बोर्ड अध्यक्ष ने 14 लोगों को नि:शुल्क विद्युत चलित चौक वितरण कार्यक्रम के तहत चाक वितरण किए। साथ ही मिट्टी उठान के लिए 6 लोगों को पट्टे भी इस दौरान वितरित किए गए। समीक्षा बैठक में लाभार्थियों ने मिट्टी की कमी की समस्या भी अध्यक्ष के समक्ष रखी, जिस पर उन्होंने जल्द ही इस समस्या का निस्तारण करने का आश्वासन दिया। बैठक का संचालन परियोजना निदेशक डीआरडीए पीएन दीक्षित ने किया। इस दौरान एडीएम प्रशासन ऋतु सुहास, एसडीएम सदर विनय सिंह, जिला ग्रामोद्योग अधिकारी संजय श्रीवास्तव सहित विद्युत, सिंचाई एवं जल विभाग से जुड़े अधिकारी मौजूद रहे।