राजनीतिक गलियारों में शोक की लहर
युग करवट संवाददाता
गाजियाबाद। वरिष्ठ भाजपा नेता और जीडीए बोर्ड सदस्य चंद्रमोहन शर्मा की मौत के करीब बीस दिन बाद उनकी पत्नी की भी मौत हो गई। स्व. चंद्रमोहन शर्मा की पत्नी संध्या शर्मा भी कोरोना से संक्रमित थीं। उनका नोएडा के कैलाश अस्पताल में इलाज चल रहा था। उल्लेखनीय है कि भाजपा के पूर्व महानगर अध्यक्ष चंद्रमोहन शर्मा की 27 अप्रैल को कोरोना से निधन हो गया था। श्री शर्मा की मौत के बाद उनकी पत्नी की भी मौत से परिवार पर कोरोना का कहर टूट पड़ा। मंगलवार शाम को संध्या शर्मा का हिंडन मोक्षस्थल पर अंतिम संस्कार कर दिया गया है।
चंद्रमोहन शर्मा बेहद मृदुभाषी थे। उनका सभी दलों के नेताओं के साथ मधुर संबंध था। यही कारण है कि उनकी पत्नी के निधन की खबर फैलते ही राजनीतिक गलियारों में शोक की लहर दौड़ पड़ी। भाजपा के कई नेताओं ने संध्या शर्मा के निधन पर शोक प्रकट किया। महापौर आशा शर्मा ने कहा कि चंद्रमोहन शर्मा के बाद उनकी पत्नी के निधन से उन्हें गहरा आघात लगा है। चंद्रमोहन जी की तरह उनकी पत्नी भी बेहद मिलनसार थी। पूर्व मेयर अशु वर्मा ने कहा कि चंद्रमोहनजी के बाद भाभीजी की मौत सदमा लेकर आई है। दोनों पति-पत्नी हमेशा खुशमिजाज रहते थे। महानगर अध्यक्ष संजीव शर्मा ने कहा कि दुख की इस घड़ी में पार्टी उनके परिवार के साथ है। पूर्व महानगर अध्यक्ष अजय शर्मा ने कहा कि चंद्रमोहन जी के घर जब भी जाना होता था, भाभीजी हमेशा हंसकर सभी का स्वागत करती थी। बैठकों को लेकर कई बार उनके घर जाना होता था, हर बार वे हालचाल पूछती थीं।